बरेली, जेएनएन। डिब्रूगढ़ से लालगढ़ जा रही अवध असम एक्सप्रेस में 16 नाबालिग मिले हैं। इन्हें बिहार से पंजाब मजदूरी कराने ले जाया जा रहा था। चाइल्ड लाइन की सूचना पर जीआरपी ने ट्रेन की अलग-अलग बोगियों से इन्हें जंक्शन पर उतारा। नाबालिगों के साथ दस अन्य लोग मिले हैं जो स्वयं को इनका रिश्तेदार बता रहे हैं। सभी से पूछताछ की जा रही है। 

चाइल्ड लाइन ने दिया था जीआरपी काे इनपुट 

गुरुवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे चाइल्ड लाइन के हेल्पलाइन नंबर 1098 पर एक काल आई, जिसमें बताया कि अवध असम एक्सप्रेस से 16 नाबालिगों को मजदूरी कराने के लिए पंजाब के भटिंडा ले जाया जा रहा है। इस सूचना पर चाइल्ड लाइन की सदस्य आशा सक्सेना ने तत्काल जीआरपी को सूचना दी। शाहजहांपुर जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर तीन पर ट्रेन रुकते ही जीआरपी प्रभारी फजल उर रहमान खां ने सिपाहियों के साथ बोगियों में तलाश शुरू कर दी।

अलग -अलग बाेगियाें में दस लाेगाें सहित मिले 16 नाबालिग

अलग-अलग बोगियों में दस लोगों सहित 16 नाबालिग मिले। साथ में मौजूद लोगों से पूछताछ की तो बताया कि वे लोग पंजाब के भटिंडा में मजदूरी करते हैं। ये बच्चे उनके रिश्तेदारों के हैं। उन लोगों की सहमति से इन्हें काम कराने के लिए अपने साथ ले जा रहे थे। ट्रेन में मिले नाबालिग बिहार के पूर्णिया व किशनगंज जिले के हैं। चाइल्ड लाइन की टीम व जीआरपी फोन नंबर लेकर उनके स्वजन से संपर्क करने का प्रयास कर रही हैं।  

Edited By: Ravi Mishra