बरेली, जेएनएन । उत्तर प्रदेश के बरेली के पूर्वी फतेहगंज थाना क्षेत्र के अंर्तगत सरकारी हैंडपंप पर पानी भरने गई अनुसूचित जाति की महिला के कपडे़ फाड़ने का मामला सामने आया है। पीडित महिला दूसरे समुदाय के दो युवकों पर सरकारी हैंडपंप से पानी भरने से रोकने का आरोप लगाया है। पीडिता का कहना है कि जब उसने इस बात का विरोध किया तो आरोपितों ने उसके साथ मारपीट करते हुए उसके कपडे़ फाड़ दिए। मामले में पुलिस ने जहां दो आरोपितों को हिरासत में ले लिया है। वहीं पुलिस का कहना है कि सरकारी नल के पास दूसरे पक्ष के मकान का निर्माण कार्य चल रहा था। जिसको लेकर दोनो पक्षों के बीच विवाद हो गया।

पूर्वी फतेहगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली अनुसूचित जाति की महिला के घर के पास ही सरकारी नल लगा हुआ है। महिला का कहना है कि वह सरकारी नल पर पानी भरने गई थी। इस दौरान क्षेत्र में ही रहने वाले कुछ युवकों ने उसे सरकारी नल से पानी भरने से मना किया। पीडिता का कहना है कि उसने जरूरत बताकर बाल्टी में पानी भर लिया। इस बात पर विवाद हो गया। पीडिता का आरोप है कि जब उसने युवकोें का विरोध किया तो उन्होंने उसके साथ मारपीट कर उसके कपडे़ फाड़ दिए। इस दौरान उसने किसी तरह से भागकर खुद को बचाया। जिसके बाद जब वह दोबारा नल पर पानी लेने पहुंची तो आरोपितों ने उसे फिर से घेरकर मारा और गॉव से बाहर भगाने की धमकी भी दी।

जिसके बाद महिला ने यह जानकारी अपने परिवार के अन्य सदस्यों को दी। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दो युवकों को हिरासत में ले लिया। और घटना के बारे में जानकारी ली। जिसके बाद पुलिस को शुरूआती जांच में पता चला कि नल के बगल में दूसरे पक्ष के मकान का निर्माण चल रहा है। मलबा, ईट आदि ऊपर से गिर जाए इसलिए महिला को नल पर न आने को कहा। इस पर बात दोनों पक्षों में मारपीट हुई।

आरोपित युवकों को थाने लाया गया है। जांच में जो आरोप साबित होंगे, उसी अनुसार मुकदमा दर्ज किया जाएगा। -अश्वनी कुमार, थाना प्रभारी, फतेहगंज पूर्वी