बरेली, जेएनएन। कोरोना से ठीक होकर लोगों में थकान, कमजोरी , भूख न लगना एवं अन्य समस्याएं बढ़ रहीं हैं। विशेषज्ञों की मानें तो इसे पोस्ट कोविड के लक्षण बता रहे हैं। समस्याओं को लेकर दवाइयों के साथ योगासन का सहारा ले रहे हैं। पश्चिमुत्तान आसन के विषय में डा ब्रजेश गुप्ता जानकारी दे रहे हैं।

विधि- सांस लेते हुए दोनों हाथ बराबर एक साथ उठाएं। गहरी- गहरी सांस लें। दोनों हाथों को कानों से लगाएं,याद रहे हथेेलियां आगे की ओर रहें। अब सांस छोड़ते हुए कमर के निचले भाग से मोड़कर शरीर और हाथ को जमीन के समान्तर रखें। इसके बाद पूरी सांस छोड़ते हुए हाथों से पैर के अंगूठें को पकड़ें। तथा पैर आगे झुकाते हुए माथे को घुटनों और वक्ष्र को जांघों से लगाएं। ध्यान रहें इस बीच घुटने मुड़ें नहीं। फिर सामान्य गति से सांस लेते हुए और छोड़ते हुए पूर्ण स्थिति को एक मिनट तक बनाएं रखें। इसके बाद धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए। पूर्व स्थिति में वापस आएं।

लाभ - आक्सीजन लेवल तो बढ़ाता ही है। गुर्दे एवं उदर रोग में भी बहुत कारगर है। साथ ही हृदय रोगी, तीव्र कमर दर्द और पेट का आपरेशन होने के तीन महीने तक यह आसन न करें।