बाराबंकी : बालिका की संदिग्ध मौत के मामले में पुलिस ने तीन आरोपितों में से पिता सहित दो को गिरफ्तार किया है। तांत्रिक पुलिस गिरफ्त से फरार है। सीओ ने गांव पहुंचकर जांच शुरू कर दी है।

कोतवाली बदोसराय के ग्राम खुर्दमऊ में अनम नामक बालिका की मौत के बाद पुलिस ने उसके पिता मो. आलम व उसके एक सहयोगी हनीफ तथा तांत्रिक बाबा मो. फिरोज के विरुद्ध हत्या एवं साक्ष्य छुपाने की धारा में मुकदमा पंजीकृत किया था। लड़की के पिता मो. आलम व हनीफ को पुलिस ने गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। बाबा का अभी कोई सुराग नहीं लग सका है। शुक्रवार को दोपहर क्षेत्राधिकारी दिनेश दुबे ने गांव पहुंचकर लड़की की मां से बातचीत की। क्षेत्राधिकारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।

--------------------

धर्मेंद्र हत्याकांड में पुलिस सुलझा नहीं पा रही गुत्थी

बाराबंकी : एक सप्ताह पहले चिर्रा गांव में हुई धर्मेंद्र की हत्या की गुत्थी पुलिस नहीं सुलझा सकी है। पुलिस ने मामले में अभी तक हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं किया है।

थाना टिकैतनगर के महंदीपुर निवासी धर्मेंद्र पटरंगा क्षेत्र में संविदा पर लाइनमैन था। 30 अक्टूबर की रात में आठ बजे वह आल्हनमऊ गांव में बिजली जोड़ने के लिए घर से निकला था। दूसरे दिन चिर्रा गांव में खेत गए ग्रामीणों को गांव के बाहर तालाब के किनारे शव मिला था। युवक के सिर पर गंभीर चोट के निशान पाए गए थे। इसके अलावा गले में भी निशान मिला था। मृतक के भाई ने पुलिस को धर्मेंद्र की हत्या करके शव तालाब में फेंकने बात कही थी, लेकिन पुलिस लगातार इस मौत को सड़क दुर्घटना दिखाकर अपना पल्ला झाड़ रही हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी चोट के गंभीर निशान मिले हैं, लेकिन मामले में एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया है। कोतवाल आलोक कुमार वर्मा का कहना है कि मामले में गहन जांच की जा रही है, अभी तक परिवारजन ने कोई तहरीर नहीं दी है।

Edited By: Jagran