Move to Jagran APP

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले सपा में बगावत! पूर्व मंत्री नारद राय आज कर सकते हैं बड़ा एलान

नारद ने सपा में अपनी उपेक्षा का आरोप लगाते हुए रविवार को एक्स पर लिखा जो लोग अपने बूथ को नहीं जीता पाए नए नेता बने लोग राष्ट्रीय अध्यक्ष (अखिलेश यादव) को ज्ञान दे रहे हैं। हम राजनारायण के वंशज हैं अपमान न सहा है और न सहेंगे। उन्होंने सोमवार को शाम चार बजे राजनारायण की जमात के बैनर तले खोरी पाकड़ के श्रीराम जानकी मंदिर में बैठक बुलाई है।

By Jagran News Edited By: Vinay Saxena Mon, 27 May 2024 07:42 AM (IST)
समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखि‍लेश यादव।- फाइल फोटो

जागरण संवाददाता, बलिया। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री नारद राय अपनी पार्टी से नाराज हैं। चर्चा है कि रविवार को बलिया में फेफना के कटारिया में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जनसभा के दौरान मंच से उनका नाम नहीं लिया। इससे आहत नारद राय सोमवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने का एलान कर सकते हैं।

नारद राय का कहना है कि एक साजिश के तहत उनका नाम सूची से हटाया गया। नारद ने सपा में अपनी उपेक्षा का आरोप लगाते हुए रविवार को एक्स पर लिखा, जो लोग अपने बूथ को नहीं जीता पाए, नए नेता बने लोग राष्ट्रीय अध्यक्ष (अखिलेश यादव) को ज्ञान दे रहे हैं। हम राजनारायण के वंशज हैं, अपमान न सहा है और न सहेंगे। उन्होंने सोमवार को शाम चार बजे राजनारायण की जमात के बैनर तले खोरी पाकड़ के श्रीराम जानकी मंदिर में बैठक बुलाई है।

भाजपा में जाने का एलान कर सकते हैं नारद राय 

जानकारों का कहना है कि बैठक में वह भाजपा में जाने का एलान कर सकते हैं। इस संबंध में नारद राय से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन सपंर्क नहीं सका। उनके बेटे नवीन ने बताया कि इस संबंध में वही जानकारी दे सकेंगे। लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान से पहले नारद राय के इस कदम से समाजवादी पार्टी को झटका लगना तय है।

पूर्वांचल के बड़े भूमिहार नेताओं में होती नारद राय की गिनती

नारद राय की गिनती पूर्वांचल के बड़े भूमिहार नेताओं में होती है। सूत्रों के अनुसार नारद राय 29 मई को अमित शाह के साथ बलिया में मंच साझा करते हुए भाजपा की सदस्यता ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें: '...अपनी हार का अंदाजा हो गया', छठे चरण के मतदान के बाद सपा के मुख्य प्रवक्ता की पहली प्रतिक्रिया