जागरण संवाददाता, नगरा (बलिया) : नगरा पुलिस के सहयोग से पश्चिम बंगाल से आई मिशन मुक्ति फाउंडेशन की टीम ने सोमवार को क्षेत्र स्थित विशुनपुरा चट्टी से आर्केस्ट्रा में काम कर रही 15 वर्षीया किशोरी को मुक्त कराया।

पश्चिम बंगाल के बरूईपुर के बासंतिक थाना क्षेत्र के एक गाव से 27 अगस्त को बाजार में सामान खरीदने गई किशोरी गायब हो गई थी। स्वजन ने तीन सितंबर को गुमशुदगी का मुकदमा पंजीकृत कराया। इसके बाद वहा की पुलिस ने किशोरी की लोकेशन ट्रेस करने के साथ ही गायब हुए बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था मिशन मुक्ति फाउंडेशन नई दिल्ली को किशोरी को बरामद कराने की जिम्मेदारी सौंपी। बलिया में किशोरी की लोकेशन मिलते ही संस्था ने बाल संरक्षण अधिकार आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर किशोरी को बरामदगी हेतु सहयोग मागा। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने एसपी को निर्देशित कर संस्था का सहयोग करने को कहा। सोमवार को मिशन मुक्ति फाउंडेशन के निदेशक वीरेंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व पहुंची टीम पुलिस अधीक्षक राज करन नय्यर से मिलने के बाद चाइल्ड लाइन के कोíडनेटर युसूफ खान के साथ नगरा थाने गई और एसआइ मायापति पाडेय एवं पुरुष महिला पुलिस के साथ विशुनपुरा पहुंची।

वहा संस्था के दिलीप कुमार व यूसुफ खान नकली ग्राहक बनकर आर्केस्ट्रा संचालक के घर पहुंचे और जन्मदिन पर आर्केस्ट्रा प्रोग्राम करने का बहाना बनाकर नर्तकियों को देखने की डिमाड की। आर्केस्ट्रा संचालक ने जिन लड़कियों को दिखाया, उसमें पश्चिम बंगाल से गायब किशोरी मिल गई। इसके बाद टीम ने उसे बरामद करते हुए आगे की कार्रवाई शुरू कर दी।

Edited By: Jagran