Move to Jagran APP

जयंत चौधरी मोदी 3.0 मंत्रिमंडल में होंगे शामिल? NDA में शामिल होते ही मिल गया था इस बात का जवाब

रालोद ने दोनों सीटें जीतकर राजग में अपनी भूमिका रेखांकित कर दी। बुधवार को नई दिल्ली में हुई एनडीए की बैठक में जयन्त भी मौजूद रहे। जयन्त ने कहा कि एनडीए को अपेक्षित सफलता न मिलने का विश्लेषण करेंगे। मंत्रिमंडल में शामिल होने के सवाल पर जयन्त ने कहा कि अभी एनडीए की बैठक में शामिल हुए हैं। इस बारे में कुछ कहना उचित नहीं होगा।

By Ashu Singh Edited By: Aysha Sheikh Thu, 06 Jun 2024 11:54 AM (IST)
जयंत चौधरी मोदी 3.0 मंत्रिमंडल में होंगे शामिल? NDA में शामिल होते ही मिल गया था इस बात का जवाब
जयंत चौधरी मोदी 3.0 मंत्रिमंडल में होंगे शामिल? NDA में शामिल होते ही मिल गया था इस बात का जवाब

आशु सिंह, बागपत।  लोकसभा चुनाव की परीक्षा में शत-प्रतिशत सफलता प्राप्त करने वाले रालोद का कद एनडीए में बढ़ना तय है। वैसे तो इसकी पटकथा चुनाव पूर्व ही लिख जा चुकी थी, लेकिन अब भाजपा को आशातीत सफलता न मिलने से सहयोगी दलों की पूछ बढ़ेगी। चौ. चरण सिंह को भारत रत्न, उप्र में मंत्री पद, विधान परिषद की सीट के बाद अब अगला कदम केंद्र सरकार में अहम भूमिका पाने का है।

आएनडीआइए की बैठकों में शामिल होते-होते रालोद अध्यक्ष एवं राज्यसभा सदस्य जयन्त चौधरी अचानक भाजपा के साथ हो लिए थे। फरवरी में ढलती सर्दियों में हुए इस बड़े राजनीतिक घटनाक्रम की शुरुआत चौ. चरण सिंह को भारत रत्न देने से हुई। जयन्त ने एक्स पर लिखा दिल जीत लिया और फिर जो हुआ वह इतिहास बन गया। समझौते के तहत लोकसभा चुनाव में रालोद को दो सीटें बागपत और बिजनौर मिलीं।

रालोद ने दोनों सीटें जीतीं

रालोद ने दोनों सीटें जीतकर राजग में अपनी भूमिका रेखांकित कर दी। बुधवार को नई दिल्ली में हुई एनडीए की बैठक में जयन्त भी मौजूद रहे। जयन्त ने बैठक के बाद कहा कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में तीसरी बार एनडीए सरकार बनने जा रही है। जदयू नेता नीतीश कुमार के बारे में पूछे गए सवाल पर जयन्त ने कहा कि नीतीश कुमार गंभीर राजनीतिज्ञ हैं।

उनके आइएनडीआइए छोड़ने के फैसले से प्रेरित होकर ही रालोद पहला दल था जो एनडीए के साथ आया। वे एनडीए में साथ काम करेंगे और उन्हें नीतीश जी से काफी कुछ सीखने को मिलेगा। जयन्त ने कहा कि एनडीए को अपेक्षित सफलता न मिलने का विश्लेषण करेंगे। मंत्रिमंडल में शामिल होने के सवाल पर जयन्त ने कहा कि अभी एनडीए की बैठक में शामिल हुए हैं। इस बारे में कुछ कहना उचित नहीं होगा।

बाबा, पिता के बाद अब जयन्त की बारी

प्रधानमंत्री के पोते जयन्त चौधरी अगर मंत्रिमंडल में शामिल होते हैं तो यह उनके लिए पहला अवसर होगा। जयन्त के पिता अजित सिंह चार सरकारों में मंत्री रहे। 2001 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में कृषि मंत्री बने। वीपी सिंह, पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह सरकार में भी वाणिज्य एवं उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण और नागरिक उड्ययन जैसे मंत्रालयों को संभाला।