किशोरी के दोस्त ने ही आवेश में आकर दिया सनसनीखेज वारदात को अंजाम

- सम्भल का रहने वाला है आरोपित, दरगाह रोड के पास पकड़ा

- सोथा मुहल्ले में हुई वारदात का एसएसपी ने किया खुलासा

जागरण संवाददाता, बदायूं : शहर में हुए दोहरे हत्याकांड का चौथे दिन शनिवार को स्वॉट टीम व पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने मूलरूप से सम्भल जिले के गुन्नौर निवासी युवक को गिरफ्तार किया है। जोकि शहर के सोथा मुहल्ला में ही किराए के घर में रहता था। घटना की वजह एक किशोरी को फोन व मैसेज करना बनी। किशोरी से आरोपित के संबंध थे, जबकि मृतक शब्बू उससे लगातार संपर्क साध रहा था। पूछताछ में आरोपित ने गुनाह कुबूल किया है। आरोपित को अदालत में पेश करने से पहले पुलिस ने उसे एसएसपी अशोक कुमार त्रिपाठी और एसपी सिटी जितेंद्र श्रीवास्तव के सामने पेश किया। यहां एसएसी ने मीडिया के सामने घटना का खुलासा किया।

30 जुलाई को सदर कोतवाली इलाके के मुहल्ला सोथा में दोहरा हत्याकांड हुआ था। इस कांड में कामगरान मुहल्ले का आतिफ (20) पुत्र इकबाल और गुन्नौर निवासी शब्बू उर्फ कसीमउद्दीन की हत्या की गई थी। शब्बू रिटायर्ड जेई कसीमउद्दीन का पुत्र था और अपनी बहन निशा से मिलने बदायूं आया था। निशा अपने मामा आफाकउद्दीन के खाली पड़े मकान में रहकर शहर के एक स्कूल में पढ़ा रही थी। तकनीक का सहारा लेकर पुलिस ने गुन्नौर निवासी जहांगीर को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पुलिस ने सख्ती बरती तो जहांगीर ने दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने की बात कबूल ली। एसएसपी ने खुलासा करने वाली टीम के लिए 25 हजार का इनाम घोषित किया था।

यह निकली घटना की वजह

जहांगीर ने पुलिस को बताया कि वह एलएलबी का छात्र है। उसका रिश्तेदारी में ही एक किशोरी से प्रेम प्रसंग चल रहा है। चूंकि जहांगीर और शब्बू दोस्त थे। और शहर के महिद्रा कोचिग में कंपटीशन की तैयारी कर रहे थे। ऐसे में पिछले दिनों किशोरी की मुलाकात शब्बू से भी करवाई थी। तभी से शब्बू ने उसका नंबर ले लिया और उसे कॉल समेत वाट्सएप पर मैसेज करने लगा। किशोरी ने यह बात जहांगीर को बताई तो जहांगीर ने शब्बू को कई बार समझाया लेकिन वह नहीं माना। रविवार को शब्बू यहां पहुंचा और पुन: किशोरी को मैसेज किए। इस पर वह मंगलवार को उसे समझाने के लिए घर पहुंचा। यहां शब्बू पहले उसे चाय लेकर आया और बाद में दोनों के बीच बातचीत होने लगी। यह मामला आया तो बातचीत झगड़े में बदल गई और वहां रखा सब्बल उसने शब्बू के सिर में मार दिया। ठीक इसी वक्त आतिफ घर में घुसा और खून खराबा देख शोर मचाकर भागने लगा। ऐसे में उस पर भी पहले सब्बल से प्रहार करके गिराया, खींचतान में उसकी टीशर्ट फट गई। बाद में सब्बल से ही गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद रॉड व दोनों के मोबाइल समेत टीशर्ट व टोपी लेकर वह भाग निकला। मैसेज का रिप्लाई करती थी किशोरी

जहांगीर ने बताया कि शब्बू ने स्पष्ट कह दिया था कि जो चाहे कर ले लेकिन जब तक किशोरी उसके मैसेज का रिप्लाई करती रहेगी, वह मैसेज करेगा। समझाना है तो उसे समझा। यहीं पर बात बिगड़ती चली गई और नौबत खून खराबे तक आ गई। गुस्से पर काबू नहीं रख सका और सब्बल उठाकर मार दिया।

मोबाइल भी बरामद

जहांगीर की निशानदेही पर कादरी कालोनी गेट के पास झाड़ियों से पुलिस ने सब्बल और दोनों मोबाइल समेट आतिफ के कपड़े बरामद कर लिए। आरोपित झाड़यिों में यह सामान फेंककर भाग निकला था। कादरी कालोनी घटनास्थल से तकरीबन आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहांगीर ने यह भी खुलासा किया कि आतिफ से उसकी पहचान शब्बू के साथ हुई थी। बावजूद इसके वह शोर मचाता हुआ भाग रहा था।

पोस्टमार्टम के नाम पर महज चीरफाड़

जिले के पोस्टमार्टम हाउस पर फ्रीजर तो लग गए हैं लेकिन शवों के पीएम के नाम पर महज चीरफाड़ कर मौत की वजह तलाशी जाती है। शवों का पोस्टमार्टम जिस डॉक्टर व फार्मासिस्ट ने किया था। उनका कहना है कि दोनों की मौत पीएम से तकरीबन आठ से नौ घंटे पहले हुई है। दोनों की मौत के बीच कितने वक्त का अंतराल है, यह जानकारी कोई नहीं दे पा रहा है। हालांकि आरोपित के बयान के मुताबिक 10 मिनट के भीतर ही दोनों का खेल खत्म करके वह भाग निकला था। वर्जन ::

घटना का खुलासा कर दिया गया है। क्षणिक आवेश में आकर हत्या की घटना को अंजाम दिया गया था। आरोपित को जेल भेजा जा चुका है।

- अशोक कुमार त्रिपाठी, एसएसपी

Edited By: Jagran