जागरण संवाददाता, आजमगढ़: कोहरा व बूंदाबादी के बीच मंगलवार की भोर में कोहरे के बाद सुबह करीब 11 धूप निकलने से लोगों ने राहत की सांस ली। भगवान भास्कर के दर्शन होते हुए लोगों के कामकाज में भी तेजी आ गई। सरकारी कार्यालयों में फरियादियों की संख्या अधिक देखी गई। बाजारों में भी भीड़ रही। मकर संक्रांति के बाद से मौसम साफ होने की लोग उम्मीद लगाए हुए थे लेकिन और भी ठंड बढ़ती गई। हालत यह थी कि बच्चों व बुजुर्गों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया था। हवा चलने से गलन कायम है। वहीं, शाम होते ही लोग अलाव जलाकर हाथ सेकने में लगे रहे। सुबह मौसम का मिजाज बिगड़ा हुआ था। दिन चढ़ने के साथ ही करीब सुबह 11 बजे धूप निकलने से लोगों को राहत मिली। लोग फुर्ती से अपने कामकाज निपटाने में लग गए। एक सप्ताह से परेशान लोगों ने छतों पर जाकर कपड़े सुखाए और खुद भी धूप में बैठकर ठंड से राहत महसूस की। इस दौरान चल रही सर्द हवा कभी-कभी ठंड का एहसास करता रहा। कभी धूप व कभी छांव का दौर पूरे दिन चलता रहा।

Edited By: Jagran