अंबेडकरनगर: पांचों तहसीलों की 124 ग्राम पंचायतों में करीब 372 करोड़ की लागत से पाइप द्वारा शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाएगा। इससे 244 राजस्व गांव लाभान्वित होंगे। गांवों में भूमि अधिग्रहित की जा चुकी है। जलनिगम को इसकी कमान सौंपी गई है। प्रत्येक गांव में ओवरहेड टैंक एवं पाइपलाइन डालने के लिए निगम ने करीब तीन करोड़ रुपये लागत का स्टीमेट तैयार किया है। भूमि के स्थलीय निरीक्षण की औपचारिकता भी संबंधित टीम द्वारा पूरी की जा चुकी है। प्रस्ताव पर शासन की मुहर लग चुकी है। शीघ्र ही टंकियों का निर्माण शुरू होगा।

ग्रामीण क्षेत्रों में पाइपलाइन के माध्यम से शुद्ध पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से जल जीवन मिशन का क्रियान्वयन नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति विभाग द्वारा किया जा रहा है। राज्य पेयजल स्वच्छता मिशन के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में करोड़ों की लागत से पाइपलाइन द्वारा शुद्ध पेयजल की आपूर्ति हेतु ग्राम पंचायतों में विभिन्न योजनाएं वर्ष 2014-15 से ही शुरू की जा चुकी हैं। यह व्यवस्था अभी चंद गावों तक सीमित है। भौगोलिक निरंतरता को ध्यान में रखते हुए ग्राम पंचायतों के वार्ड को एक इकाई मानकर प्रत्येक वार्ड के लिए एक योजना तैयार की गई है। योजना में विद्युत विभाग, पंचायतीराज विभाग, विकास विभाग, ग्राम पंचायतों, जलनिगम आदि को योगदान के लिए शामिल किया गया है। गांवों को इससे आच्छादित करने की दिशा में सरकार ने कदम बढ़ा दिया है। लाभान्वित होने वालों में सबसे अधिक भीटी, कटेहरी, अकबरपुर और भियांव ब्लाक के गांव शामिल हैं।

-ब्लाक --राजस्व गांव-

भीटी--65

कटेहरी--27

अकबरपुर--44

टांडा--26

रामनगर--16

जहांगीरगंज--12

बसखारी--14

जलालपुर--18

भियांव--22 राज्य पेयजल स्वच्छता मिशन के तहत जिले का चयन पाइप लाइन पेयजल में किया गया है। इसमें नौ ब्लाकों के चयनित गांवों में ओवरहेड टैंक का निर्माण होगा। शासन से हरी झंडी मिलते ही निर्माण शुरू कर दिया जाएगा।

वकार हुसैन, एक्सईएन

जलनिगम

Edited By: Jagran