प्रयागराज, जागरण संवाददाता। प्रयगाराज के शहर उत्तरी विधायक हर्षवर्धन वाजपेयी का आज जन्‍मदिन है। भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता उनके चिरायु होने की कामना कर रहे हैं। उल्‍लेखनीय है कि उनके नाम दो कीर्तिमान हैं। प्रयागराज की शहर उत्तरी सीट से अब तक सब से अधिक मत हासिल करने और सब से अधिक वोट के अंतर से जीत हासिल करने का भी गौरव मिला है। उन्हें यह सफलता भाजपा की सदस्या लेकर चुनाव लडऩे के बाद हासिल हुई। उन्होंने 2016 में भाजपा की सदस्यता ली और 2017 में शहर उत्तरी सीट से विधानसभा का टिकट मिला और वह विजयी भी हुए। 

माता-पिता कांग्रेस पृष्ठभूमि से, हर्षवर्धन का भाजपा के प्रति झुकाव

विधायक व भाजपा नेता हर्षवर्धन वाजपेयी आज शुक्रवार को अपना 40वां जन्मदिन मना रहे हैं। अनौपचारिक बातचीत में उन्होंने बताया कि भाजपा की राष्ट्रवादी विचारधारा ने उन्हें प्रभावित किया। यही वजह है कि पिता अशोक वाजपेयी, मां रंजना वाजपेयी के कांग्रेस की पृष्ठभूमि से होने के बाद भी वह बीजेपी की ओर झुके। बाद में मां और पिता ने भी भाजपा की तरफ अपना रुझान बढ़ाया।

सेंट जोसफ कॉलेज से की स्कूल स्तर की पढ़ाई

भाजपा विधायक हर्षवर्धन वाजपेयी की स्कूल स्तर की पढ़ाई सेंटजोसफ कालेज से हुई है। उन्होंने पीसीएम ग्रुप (गणित वर्ग) से 1999 में 12वीं की परीक्षा पास की। तुरंत बाद वह कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड चले गए। वहां चार साल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की। 2003 में स्वदेश लौटकर दिल्ली विश्वविद्यालय के मेन साउथ कैंपस से मास्टर्स इन फाइनेंस इन कंट्रोल की डिग्री भी पूरी की।

2006 से शुरू हुआ राजनीतिक सफर

विधायक हर्षवर्धन वाजपेयी का राजनीतिक सफर 2006 से शुरू हुआ। उन्होंने बसपा के साथ अपनी पारी शुरू की। 2007 में इसी दल से शहर उत्तरी विधानसभा के लिए टिकट मिला लेकिन मात्र 1500 वोट से हार का सामना करना पड़ा। 2008 में बीएसपी ने महानगर अध्यक्ष की भी जिम्मेदारी सौपी। 2011 तक वह महानगर अध्यक्ष बने रहे। 2012 में फिर बीएसपी ने विधानसभा का टिकट दिया लेकिन इस बार भी जीत दर्ज करने में नाकाम रहे। करीब 5000 वोट से हार का सामना करना पड़ा।

2016 में ली भाजपा की सदस्यता

वर्तमान शहर उत्तरी विधायक हर्ष वर्धन वाजपेयी ने 2016 में भाजपा की सदस्यता ली और राष्ट्रवादी विचारधारा को आगे बढ़ाने के लिए तत्पर हो गए। 2017 में भाजपा की तरफ से उन्हें शहर उत्तरी सीट से टिकट मिला। रिकार्ड 35 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की। यह जीत अब तक की इस सीट पर सब से बड़ी जीत थी। एक लाख से अधिक वोट भी मिले।

Edited By: Brijesh Srivastava