प्रयागराज, जेएनएन। संगीत के क्षेत्र में मुकाम हासिल करते हुए नई पीढ़ी को स्वावलंबन की राह दिखा रही हैं प्रतापगढ़ जनपद की डा. शिवानी मातनहेलिया जिन्हें यूपी सरकार ने यश भारती अवार्ड दिया है। देश के कई मंचों पर उनको सम्मानित किया जा चुका है। वह संगीत की शिक्षा के जरिए संसाधनहीन बालिकाओं को संगीत की शिक्षा दे कर आगे बढ़ा रही हैं। मंच प्रस्तुति से जोड़कर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराती हैं।

अवधी, भोजपुरी, ब्रज, मारवाड़ी में गायन कर घोल रहीं मिठास

मुनीश्वर दत्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय में संगीत विभाग की अध्यक्ष के रूप में तथा व्यक्तिगत स्तर पर शिवानी ने सैकड़ों युवाओं को संगीत में न केवल शिक्षित व प्रशिक्षित किया, बल्कि संगीत व अन्य कलाओं को गंभीर कैरियर के रूप में अपनाने के लिए प्रेरित किया। वह हिंदी के अलावा संस्कृत, अवधी, भोजपुरी, ब्रज, मारवाड़ी, बांग्ला आदि अनेक भाषाओं में सहजता पूर्वक गायन करती हैं।

पिता थे नगर सेठ, बेटी समाज सेवा में सक्रिय

नगर सेठ रहे स्व. जगदीश मातनहेलिया की बेटी डा. शिवानी सामाजिक सरोकारों के प्रति अपनी प्रतिबद्ध हैं। राज्य निर्वाचन आयोग व जिला प्रशासन ने उन्हें वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव तथा वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में मतदाता जागरूकता अभियान के ब्रांड एंबेसडर के रूप में भी नामित किया था।

जबरदस्त है प्रतिभा, 30 से अधिक मिल चुके सम्मान

उन्होंने पारिवारिक विरासत को कुशलतापूर्वक संभालते हुए प्रतापगढ़ के सांस्कृतिक उन्नयन में अपने व्यक्तिगत प्रयासों से उल्लेखनीय योगदान दिया है। जनपद से संबद्ध कला व संस्कृति के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान बना चुकी डा. शिवानी मातनहेलिया संगीतज्ञ, कवयित्री, गीतकार, लेखिका, शोधार्थी, वक्ता, शिक्षिका और संगीत निर्देशक भी हैं। शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए 30 से अधिक सम्मान दिए गए हैं।

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट