प्रयागराज, जागरण संवाददाता। अगला महाकुंभ मेला 2025 में प्रयागराज में होगा। गंगा, यमुना के संगम में पुण्‍य की डुबकी लगाने करोड़ों श्रद्धालु आएंगे। उनकी सुविधा का सारा प्रबंध यहां रहेगा। महाकुंभ के दौरान संगम नगरी में 1000 इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी। ई-रिक्शा व सीएनजी मोटर बोट भी होगा। दीपावली 2024 से पहले महाकुंभ के कार्यों को पूरा करने के निर्देश भी शासन की ओर से दिया गया है।

महाकुंभ में 1000 इलेक्‍ट्रानिक बसें चलेंगी : महाकुंभ 2025 की थीम क्लीन व ग्रीन रहेगी। इसके अनुरूप समस्त कार्ययोजना बनाई जाएगी। 1000 इलेक्ट्रानिक बसों का संचालन होगा, जिससे महाकुंभ से प्रदूषण मुक्त का संदेश जाए। ई-रिक्शा तथा यमुना में सीएनजी मोटर बोट सेवा शुरू की जाएगी।

प्रयागराज से जुड़ने वाली सभी सड़क फोरलेन बनेगी : पीडब्ल्यूडी एवं एनएचएआइ को प्रयागराज से जुड़ने वाली सभी सड़कों को फोरलेन किया जाएगा। महाकुंभ में 40 करोड़ श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। उसी के अनुरूप उत्कृष्ट प्रबंधन का खाका तैयार किया गया है। श्रद्धालुओं को लुभाने के लिए लंदन व्हील की तरह प्रयागराज में संगम व्हील बनाया जाएगा।

रायबरेली से प्रयागराज, अयोध्‍या से प्रयागराज की सड़क फोरलेन होगी : मुख्यमंत्री ने योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर (आइसीसीसी) में आलाधिकारियों के साथ बैठक करके जरूरी निर्देश दिए थे। उन्होंने महाकुंभ से जुड़े सभी कार्यों को दीपावली 2024 से पहले पूरा करने का निर्देश दिया है। यही कारण है कि उसके अनुरूप खाका तैयार किया जा रहा है। रायबरेली से प्रयागराज एवं अयोध्या से प्रयागराज आने वाली सड़क को फोरलेन बनाने का काम जल्द शुरू किया जाएगा। पीडब्ल्यूडी तथा राज्य सेतु निगम अपने अधूरे कार्यों को युद्धस्तर पर पूरा कराएगा। मुख्यमंत्री ने पर्यटन विभाग को अच्छे होटल बनाने तथा सर्किट हाउस की क्षमता बढ़ाने व द्वादश माधव सर्किट को जोड़ने के लिए प्रस्ताव देने को कहा है।

गंगा में पर्याप्‍त पानी रहे, इसके लिए बनेगा रिवर फ्रंट : महाकुंभ से पहले गंगा-यमुना में रिवर फ्रंट बनाया जाएगा, जिससे गंगा में पर्याप्त जल रहे। उसे बनाने के लिए जल्द स्थान चयनित कर प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। रिंग रोड महाकुंभ के पहले बनाने की कवायद चल रही है। स्वास्थ्य विभाग दो लाख शौचालय की व्यवस्था करेगा। वहीं, महाकुंभ की पार्किंग के लिए लगभग 2500 हेक्टेयर जमीन की व्यवस्था की जाएगी।

महाकुंभ में श्रद्धालुओं के लिए रोपवे भी होगा : महाकुंभ में श्रद्धालुओं को रोपवे की सुविधा मिलेगी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर अधिकारियों ने रोपवे बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। रोपवे की सुविधा संगम से अरैल घाट तक जाने के लिए होगी। साथ ही देश-विदेश के श्रद्धालुओं को उत्कृष्ट सुविधा मुहैया कराने के लिए फाइव स्टार होटल बनाने पर मंथन किया जा रहा है। महाकुंभ में पहली बार पूरी तरह से सुरक्षा व्यवस्था ड्रोन के जरिए की जाएगी। भीड़ प्रबंधन, आपदा प्रबंधन जैसी व्यवस्था ड्रोन के जरिए होगी।

Edited By: Brijesh Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट