प्रयागराज, जागरण संवाददाता। ट्रेनों में टीटीई की ड्यूटी लगाने में गड़बड़ी करने के आरोप में सीआइटी सुरेंद्र कुमार पांडेय को पटल से हटा दिया गया है। बताया जा रहा है कि रोस्टर में ड्यूटी चढ़ाई जाती थी। हालांकि कई टीटीई गाड़ी लेकर नहीं जा पाते थे। मामले की शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय और रेलमंत्री से की गई थी। शिकायतकर्ता का आरोप है कि कई टीटीई ने संबंधित विभाग के अफसरों को रिश्वत की रकम बैंक खाते में ट्रांसफर की है। प्रशासनिक अमला जागा और कार्रवाई भी की। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है और अब आनलाइन लेनदेन का रिकार्ड भी खंगाला जा रहा है।

शिकायत पीएमओ और रेलमंत्री से की थी

दरअसल, एक शख्स ने शिकायती पत्र भेजकर बताया कि प्रयागराज, आगरा व झांसी तीनों मंडलों में अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी रोस्टर के जरिए ड्यूटी लगाई जा रही है और अवैध वसूली भी की जा रही है। शिकायतकर्ता के मुताबिक, पिछले दिनों मंडल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने औचक निरीक्षण किया तो करीब 20 कर्मचारी गैरहाजिर थे। आरोप है कि उपस्थिति पंजिका पर सफेदा लगाकर फर्जी हस्ताक्षर कराया गया था। पत्र में बताया कि एक सीआइटी दिल्ली में रहकर मुख्यालय में नौकरी चल रही है। इनकी हाजिरी ईडीआर निजी धन पंजिका में अन्य कर्मचारी हस्ताक्षर कराकर स्टाफ से वेतन आहरित करा रहा है। फर्जी हाजिरी के एवज में सुविधा शुल्क भी लेने का आरोप लगाया गया था।

सीनियर डीसीएम-2 ने सीआइटी सुरेंद्र कुमार पांडेय को पटल से हटाया

फिलहाल मामले की जांच कर रहे सीनियर डीसीएम-2 विपिन सिंह ने सीआइटी सुरेंद्र कुमार पांडेय को पटल से हटा दिया गया है। मामले की जांच कराई जा रही है। साथ ही विजिलेंस की टीम भी मामले की जांच में जुटी है।

प्रयागराज मंडल के डीआरएम बोले

प्रयागराज मंडल के डीआरएम मोहित चंद्रा ने कहा कि शिकायत मिलने पर आरोपित को पटल से हटा दिया गया है। फिलहाल मामले की विभागीय जांच कराई जा रही है। इसके बाद आगे की कार्रवाई होगी।

 

Edited By: Brijesh Srivastava