प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों के समर्थन में शुक्रवार की दोपहर पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव प्रयागराज पहुंचे। शहर पहुंचने पर उनका भव्‍य स्‍वागत किया गया। इस दौरान पूर्व सांसद में कहा कि कुलपति छात्रों से माफी मांगें। छात्र परिषद चुनाव में 70 के सापेक्ष किए गए 17 नामांकन में 16 प्रत्‍याशियों ने अपना नाम वापस लिया है। यह इविवि में छात्रसंघ बहाली के लिए आंदोलन करने वाले छात्रों की ऐतिहासिक जीत है।

कहा कि कुलपति को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए

नगर आगमन पर सिविल लाइंस स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत के दौरान पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव ने  कहा कि कुलपति को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इविवि के कुलपति प्रोफेसर रतन लाल हांगलू केंद्र सरकार के कठपुतली हैं। छात्रों पर लाठी बरसाने के मामले में उन्होंने कहा यदि प्रदेश में सपा की सरकार बनी तो समाजवादी पार्टी ले राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से अनुरोध किया जाएगा कि सीओ दारागंज आदेश त्यागी को यश भारती से सम्मानित कराया जाए।

छात्र परिषद चुनाव में एकमात्र प्रत्याशी ने ठोकी ताबूत में आखिरी कील

 इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र परिषद चुनाव के एक मात्र प्रत्याशी वागीश शुक्ल ने भी शुक्रवार की दोपहर में अपना नामांकन वापस ले लिया है। इस छात्र ने सोशल मीडिया पर अपना नामांकन वापसी पत्र साझा किया है। अब तक एक मात्र प्रत्याशी के दम पर इविवि प्रशासन छात्र परिषद चुनाव कराने की सोच रहा था। ऐसे में वागीश के नामांकन वापस लेने पर इविवि की योजना पर पूर्ण विराम लग गया है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस