अलीगढ़ : शहर में मीनाक्षी सिनेमा के मैनेजर के खिलाफ कार्रवाई कर गिरफ्तार करने की मांग को लेकर एसएसपी कार्यालय पर प्रदर्शन कर रहे हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया और दूर-दूर तक खदेड़ दिया। पुलिस ने आठ कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। कार्यकर्ता तीन महीने पहले मंच के कार्यकर्ता मुकेश माहौर पर हुए हमले में कार्रवाई न होने के चलते प्रदर्शन कर रहे थे।

बताते चलें कि 28 फरवरी को शहर के मीनाक्षी सिनेमा हॉल में फिल्म देखने के लिए हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ता आए थे। टिकट लेने के लिए कार्यकर्ताओं ने पांच सौ का नोट दिया था, जबकि टिकट देने वाले कर्मचारी का कहना था कि सौ का नोट दिया है। इसी को लेकर मारपीट हो गई थी। बाद में इसी दिन छर्रा अड्डा पुल के नीचे ¨हदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमला हुआ था। इस मामले में ¨हदू जागरण मंच के कार्यकर्ता की ओर से सिनेमा हॉल के मैनेजर सुशील सिसौदिया के खिलाफ जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज करा दी गई थी। इसके उलट मैनेजर ने भी ¨हदू जागरण मंच के कार्यकर्ता मुकेश माहौर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी थी। ¨हदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पुलिस ने मैनेजर को गिरफ्तार नहीं किया बल्कि मुकदमे में लगी धाराओं को सामान्य मामले की धाराओं में तब्दील कर दिया। इससे गुस्साए कार्यकर्ता मंगलवार की सुबह एसएसपी कार्यालय पहुंच गए और मैनेजर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना शुरू कर दिया। बताते हैं कि धरना शुरू होने के काफी देर तक एसएसपी सहित कोई भी अधिकारी धरना स्थल पर नहीं पहुंचा। इससे गुस्साए कार्यकर्ता एसएसपी कार्यालय परिसर में अंदर जाने लगे। इसी दौरान एसएसपी कार्यालय परिसर के बाहर मुख्य गेट बंद कर दिया गया। पुलिस ने कार्यकर्ताओं को रोका और कहा कि फरियादियों को अंदर आने में परेशानी हो रही है। इसको लेकर पुलिस और कार्यकर्ताओं में नोकझोंक हो गई। विवाद ज्यादा बढ़ने पर पुलिस ने लाठी चार्ज करना शुरू कर दिया। इससे अफरा-तफरी मच गई। पुलिस ने कार्यकर्ताओं को दूर-दूर तक खदेड़ दिया और आठ कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है। इनमें कन्हैंया,

दर्शन, भगवान दास, नितिन, प्रकाश चंद्र, आदर्श, रमन, संजय शर्मा शामिल हैं। घटना के संबंध में एसपी क्राइम आशुतोष द्विवेदी का कहना है कि कुछ लड़के उनके पास आए थे, जिन्हें निष्पक्ष कार्रवाई का पूरा आश्वासन दिया गया था, लेकिन लड़के नहीं माने और गेट बंद कर दिया। इससे फरियादियों को परेशानी हो रही थी, इसलिए मजबूरन हल्का बल प्रयोग करना पड़ गया था।

एसएसपी अजय कुमार साहनी का कहना है कि कुछ कथित हिंदूवादी एक क्रॉस केस में आरोपित की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन कर रहे थे। इन्हें काफी समझाया गया, लेकिन वे नहीं माने। दफ्तर पर फरियादियों से अभद्रता करने लगे। नहीं मानने पर हल्का बल प्रयोग किया गया। आठ युवकों को हिरासत में ले लिया है और मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस