अलीगढ़, जागरण संवाददाता। जम्मूतवी से टाटानगर जा रही मुरी एक्सप्रेस का डिब्बा पटरी से उतरने के चलते मंगलवार को दिल्ली से अलीगढ़ की तरफ आने वाली सात ट्रेनें प्रभावित रहीं। इनमें सीमांचल एक्सप्रेस तीन घंटे, जबकि महानंदा एक्सप्रेस करीब ढाई घंटे की देरी से आई। इसके चलते यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कई यात्रियों को हादसे के बारे में जानकारी ही नहीं थी। ऐसे में वे घंटों स्टेशन पर ही बैठे थे।

वैष्‍णो देेवी के जाने वाले यात्री परेशान

अलीगढ़ से माता वैष्णो देवी आने-जाने वाले लोगों के लिए मुरी एक्सप्रेस सबसे मुफीद है। वहीं मुरी में पंजाब के अमृतसर, लुधियाना, पानीपत, अंबाला जाने-आने वालों की संख्या में अधिक है। अधिकारियों के मुताबिक, मंगलवार सुबह 8:20 बजे खुर्जा स्टेशन के पास वैर पर सांड़ के टकराने के चलते ट्रेन का एस-7 कोच पटरी से उतर गया। इसके चलते अफरा-तफरी मच गई। यहां से विभागीय अधिकारी वैर पहुंचे और बोगी को काटकर अलग किया गया।

यात्रियोंं का किया स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण 

इस दौरान लूप लाइन से ट्रेनों को निकाला गया। कुछ देर के लिए ट्रैक बाधित रहा। बोगी से अलग करके के बाद मुरी के इंजन समेत तीन डिब्बे अलीगढ़ के लिए रवाना किए गए, जो 12:30 पर यहां प्लेटफार्म नंबर सात पर पहुंचे। स्टेशन अधीक्षक डीके गौतम की देखरेख में रेलवे की ओर से यात्रियों के लिए चाय, पूरी सब्जी आदि दिया गया। स्वास्थ्य टीम ने कुछ यात्रियों का चेकअप भी किया। हालांकि कोई हताहत नहीं हुआ। कुछ यात्रियों को ऐहतियातन घबराहट व दर्द आदि की दवाएं दी गईं।

दूसरे डिब्‍बों में यात्रियों को किया शिफ्ट

इधर, ट्रेन का शेष हिस्सा 01:14 पर अलीगढ़ पहुंचा। इसके बाद उन डिब्बों के यात्रियों को खाने-पीने की सामग्री दी गई। यहां से ट्रेन 02:05 पर रवाना हुई। झटका लगा तो घबरा गए मुरी एक्सप्रेस का यहां से सुबह 8:50 पर रवाना होने का समय है। लेकिन, इस हादसे के चलते ट्रेन 5:12 मिनट देरी से निकली। ट्रेन में बैठे एक यात्री ने बताया कि ट्रेन की रफ्तार तेज नहीं थी। अचानक झटका लगा तो कुछ समझ नहीं आया। सब घबरा गए। जब पता चला कि डिब्बा पटरी से उतर गया तो हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन यात्रियों को दूसरे डिब्बों में शिफ्ट किया गया। इस दौरान उनके स्वजन भी परेशान रहे।

ये ट्रेनें रही लेट

ट्रेन, पहुंचने का समय, प्लेटफार्म पर आने का समय, कितना लेट नार्थ-ईस्ट एक्सप्रेस (12506), 09:13, 11:23, दो घंटा 10 मिनट नीलांचल एक्सप्रेस (12876), 09:05, 10:44, एक घंटा 49 मिनट सीमांचल (12488), 09:42, 12:44, तीन घंटा चार मिनट महानंदा (15484), 09:52, 12:29, दो घंटा 39 मिनट महाबोधी (12398), 02:32 (दोपहर), 03:09, 39 मिनट गोमती (12420), 12420, 02:15 (दोपहर), 03:00, 45 मिनट लेट आनंद विहार-संत्रगाची एक्सप्रेस (22858), 03:02 (दोपहर), 03:29, 29 मिनट जान जोखिम में डालकर ट्रेन में चढ़ा युवक एक तरफ इस हादसे ने रेलवे प्रशासन के हाथ-पांव फुला रखे थे, वहीं दूसरी तरफ प्लेटफार्म नंबर चार पर एक और हादसा होने से बच गया।

आरपीएफ जवान ने युवक को दी हिदायत

हुआ यूं कि नार्थ-ईस्ट एक्सप्रेस प्लेटफार्म पर आई। कुछ देर रुकने के बाद ट्रेन जब चल पड़ी, तभी एक युवक अपने बच्चे के साथ दौड़ लगाने लगा। चलती ट्रेन में वह बच्चे को लेकर चढ़ा। युवक की पत्नी पहले ही ट्रेन में चढ़ चुकी थी। इसे देख ट्रेन को रुकवाया गया। आरपीएफ के जवान ने युवक को हिदायत भी दी। यात्रियों के बोल सीमांचल एक्सप्रेस में जाना था। लेकिन, ट्रेन लेट हो गई। काफी देर तक कोई जानकारी भी नहीं हुई कि क्या हुआ। लंबा इंतजार करना पड़ा।

इन यात्रियों को हुई परेशानी

अजय कुमार, मुगलसराय महानंदा एक्सप्रेस में रिजर्वेशन करा रखा था। लेकिन, ट्रेन काफी देरी से आई। इसके चलते परिवार को भी परेशान होना पड़ा। जावेद, फंफूद सीमांचल हम 10 लोगों ने सीमांचल से बिहार जाने के लिए टिकट करा रखा था। लेकिन, इस हादसे के चलते काफी देर इंतजार करना पड़ा। अब्दुल्ला, बिहार पश्चिम बंगाल जाना था। सुबह ही घर से निकल आई। लेकिन, स्टेशन पर घंटों ट्रेन के लिए इंतजार किया। यावो देवी, कासगंज

Edited By: Sandeep Kumar Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट