अलीगढ़, जेएनएन । कोरोना से जंग जारी है। हम सब हर वह उपाय तलाश रहे हैं, जिससे जीत हमारी है। दो गज दूरी-मास्क जरूरी का संकल्प लगभग ले ही चुके हैं। कोविड 19 की इस गाइड लाइन का पालन कराने के लिए सरकार और प्रशासन भी प्रयासरत हैं। सामाजिक लोग भी लोगों को जागरुक कर रहे हैं। लेकिन, कोरोना को हराने के लिए और भी उपाय करने होंगे। ताकि आप स्वस्थ्य रहें। इम्युनिटी से हर संक्रमण का मुकाबला कर सकें। सबसे अधिक कोरोना का असर फेंफड़े पर बताया जा रहा है। संक्रमण से फेंफड़ों को सुरक्षित रखने के भी कई उपाय हैं। इनमें से एक हैै भाप। हालांकि, यह कोई नया उपाय नहीं। हमारे बुजुुर्ग करते हैं। बताते रहे और सीख भी देते रहे हैं। यही सीख अब अपनाने की जरूरत है। चिकित्सक इसकी सलाह दे रहे हैं। उनका कहना है कि दिन में दो या तीन  बार पांच मिनट भाप लेने से फेंफड़ों पर संक्रमण का अधिक असर नहीं होता। लेकिन, अधिक समय भाप लेना नुकसान दायक हो सकता है। 

भाप से संक्रमण को रोकने में मिलेगी मदद

भाप लेना सबसे आसान और असरदार इलाज है। संक्रमण को रोकने में इससे काफी फायदा मिलता है। इससे सांस लेने वाली नली तो ठीक रहती ही है और आपके फेफड़े भी स्वस्थ्य रहते हैं। सामान्य तौर पर भाप लेने का सबसे पुराना और घरेलू तरीके गर्म पानी है। लोग इसी से भाप लेते हैं। यह सबसे आसान भी है। लोगों को सिर पर तौलियां रखकर आंख बंद करके भाप लेनी चाहिए। इससे इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। बाजार के उपकरण से भी भाप ले सकते हैं, लेकिन इस दौरान ध्यान रखने की जरूरत है कि भाप गले और सांस लेने वाली नली के आखिर तक जानी चाहिए। इससे ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त होगा। रोजाना दो से तीन बार भाप लेने से काफी फायदा मिलता है। खांसी व बंद नाक में भी इससे काफी राहत मिलती है। कोराोना से जंग जीतने में यह सबसे बड़ा हथियार है।

-डा. एके सिंघल, शहर के वरिष्ठ फिजीशियन  

कैसे लें भाप  

  • -सबसे पहले एक बर्तन में पानी को अच्छे से गरम कर लें  
  • -चेहरे को अच्छी तरह से साफ कर लें। 
  • -आप जिस कमरे में हैं, वहां के पंखा, कूलर, एसी बंद कर कर लें।  
  • -मेज पर गरम पानी के बर्तन को रख लेंं। 
  • - तौलिया लें और इसे अच्छी तरह से पूरे चेहरे को ढंक लें। 
  • -अब अपने चेहरे को गरम पानी के बर्तन से कुछ दूरी पर रखें। 
  • -चेहरे को बहुत पास नहीं ले ले जाएं।  
  • -पानी में विक्स, संतरे व नींबू के छिलके, लहसुन, टी ट्री आयल, अदरक, नीम की पत्तियां इत्यादि में से कुछ भी मिला सकते हैैंं 
  • -यह एंटीमाइक्रोबियल होते हैं जो वायरस को मारने में मदद करते हैं। 

यह रखें सावधानी  

  • -दिन में तीन बार से ज्यादा भाप नहीं लेनी चाहिए। 
  • -साथ ही एक बार में पांच मिनट से ज्यादा भाप नहीं लेनी चाहिए।  
  • -भाप लेते वक्त मुंह खुला रखना चाहिए यानि आपको मुंह से सांस लेकर भाप तक पहुंचाना है।  
  • - भाप लेते समय और भाप लेने के बाद हवा में मत बैठिए। 
  • -साथ ही कुछ घंटे तक ठंडा पानी भी मत पीजिए।  

ये  हैं फायदे  

  • -नियमित भाप लेने से कोरोना का फेफड़ों पर अधिक असर नहीं होगा।  
  • - जिस तरह सैनिटाइजर से हाथ साफ होते हैं, उसी तरह स्टीम अंदर जाकर फेफड़ों को सैनिटाइज करता है। 
  • -भाप लेने से गले में जमा हुआ कफ भी आसानी से निकल सकेगा।  
  • -इससे त्वचा की गंदगी हट जाती है।  त्वचा को प्राकृतिक चमक मिलती है।
  • -अस्थमा मरीजों को भाप लेने से सांस लेने में राहत मिलती है।
  • -भाप लेने से मुंहासे भी खत्म हो जाते हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप