अलीगढ़ (जेएनएन)। अतिसंवेदनशील अलीगढ़ की बाबरी मंडी इलाके में तीन तलाक का मुद्दा गरमा गया। एक ही संप्रदाय के दो पक्षों मारपीट, पथराव व फायरिंग हुई। घरों में घुसकर तोडफ़ोड़ की गई। महिलाओं को भी पीटा गया। तीन लोग घायल हुए हैं। फोर्स पहुंची तो हमलावर भाग निकले। हमलावर एक हिस्ट्रीशीटर के इशारे पर कासिम नगर से आए थे। 

तस्वीरों में देखें-बहराइच जिला अस्पताल में मोगली की दिनचर्या

कोतवाली क्षेत्र के बाबरी मंडी स्थित सैयदबाड़ा में शिया व सुन्नी समाज के परिवार रहते हैं। शिया समाज के चार परिवार हैं, जिनमें एक मंजीर हैदर का है। बाकी परिवार इन्हीं के रिश्तेदारों के हैं। बुजुर्ग मंजीर हैदर की मानें तो वह तीन तलाक पर केंद्र सरकार के फैसले के पक्ष में हैं। उनका समाज भी समर्थन करता है। दूसरा पक्ष विरोध में है। इसी मुद्दे पर पड़ोसी आए दिन छींटाकशी करते रहते हैं। मंजीर ने बताया कि उनका साला अनवर हैदर इमामबाड़े की देखरेख करता है। गुरुवार सुबह आठ बजे अनवर इमामबाड़ा गया था। वहां दूसरे पक्ष के युवकों ने प्रधानमंत्री मोदी का नाम लेकर चिढ़ाना शुरू कर दिया। तीन तलाक को लेकर भी आरोप-प्रत्यारोप लगाए।

यह भी पढ़ें: Love Jehad: मुजफ्फरनगर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में बुर्का पहन रही छात्राएं पकड़ीं

मामले पर विरोध बढ़ने पर अनवर के साथ मारपीट कर दी गई। स्थानीय लोगों के हस्तक्षेप पर वे लोग तब वहां से चले गए। दोपहर के वक्त इलाके के एक दबंग व्यक्ति के इशारे पर कासिम नगर से उसके कुछ रिश्तेदार और परिचित बाइक पर आए और हमला कर दिया। छतों पर चढ़कर पथराव किया। आठ-दस राउंड फायङ्क्षरग की। हमलावर घरों में घुस आए। तोडफ़ोड़ कर दी। विरोध करने पर महिलाओं को पीटा। अनवर व उनकी पत्नी रियाज बानो से मारपीट की। पुत्रवधू शबनम पर भी हाथ उठाया। मारपीट में तीनों लोग जख्मी हो गए। 

यह भी पढ़ें: योगी ने बढ़ाया भगवा का जलवा, दुकानों पर डिस्प्ले में भगवा सबसे आगे 

हमलावरों की तलाश में दबिश 

पीएसी के साथ पहुंरी पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लिया। पुलिस ने हमलावरों की तलाश में कई स्थानों पर दबिश दी। देरशाम मंजीर पक्ष की ओर से कोतवाली में तहरीर दी गयी। सैयद बाड़ा में एक भवन पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज पुलिस अधिकारियों ने देखे। पीडि़त पक्ष को भी दिखाए गए। मुहल्ले में दाखिल हुए बाहर से आए कुछ बाइक सवारों को चिह्नित किया गया है। हमला प्रायोजित था और हमलावर पूरी तैयारी के साथ आए थे। पुलिस ने मौके से कारतूस के कुछ खोखे बरामद किए हैं। नाली में कारतूस का खाली पैकेट भी मिला है। कारतूस निकालकर पैकेट फेंका गया था। 

यह भी पढ़ेंबहराइच के कतर्नियाघाट जंगलों में मिली मोगली गर्ल

कलावा पहना तो कहा काफिर

मंजीर बताते हैं कि वे और उनका परिवार कलावा पहनता है। अपनी आस्था है। दूसरा पक्ष इसे ढोंग बताता है। हम लोगों को काफिर कहा जाता है। आते-जाते समय ये लोग चिढ़ाते हैं। विरोध करने पर हमलावर हो जाते हैं। सैयदबाड़ा में सुन्नी समाज के कुछ लोग दबंग किस्म के हैं, जो हमें डराते-धमकाते हैं। हमारा मुहल्ले में रहना दुश्वार हो गया है। सीओ प्रथम राजकुमार सिंह ने कहा कि एक ही समुदाय के दो पक्षों में कहासुनी के बाद मारपीट हो गई थी। कुछ लोगों के नाम सामने आए हैं। सीसीटीवी कैमरे की मदद से भी हमलावरों को चिह्नित किया जा रहा है।एसएसपी राजेश पांडेय ने बताया कि सैयदबाड़ा में दो परिवारों का झगड़ा था। फायङ्क्षरग एक पक्ष की ओर से बताई गई पर मौके पर किसी ने फायङ्क्षरग की बात नहीं कही। हमलावरों को सीसीटीवी कैमरे से चिह्नित कर कार्रवाई की जा रही है। 

तस्वीरों में देखें-अयोध्या के रामनवमी मेले में भगदड़

तस्वीरों में देखें-जोगी रंग में रंगता जा रहा प्रदेश