अलीगढ़ (जेएनएन)। एएमयू में मंगलवार को हुए बवाल के बाद छात्र यूनिवर्सिटी के मुख्य गेट को बंद कर धरने पर बैठ गए। छात्र नेताओं के निशाने पर पीएम मोदी व सीएम योगी रहे। आरएसएस मुर्दाबाद के नारे भी गूंजे। छात्रों ने एलान किया है कि देश से मोदी व योगी की विचारधारा को उखड़ फेंकना होगा। चुनाव के चलते एएमयू छात्रों पर हमला किया जा रहा है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। छात्रों ने निलंबन के विरोध में कुलपति आवास को भी घेरा। संघी वीसी मुर्दाबाद के नारे लगाए।

कुलपति आवास घेरा

एएमयू सर्किल पर हुए टकराव के बाद छात्रों ने देर शाम को ही बाबे सैयद बंद कर विरोध शुरू कर दिया था। देर रात तक छात्र कुलपति आवास को घेरे रहे। बुधवार को भी यही हाल रहा। छात्रों ने बाबे सैयद पर तिरंगा व एएमयू का झंडा लगाकर जोर इस बात पर भी दिया कि हम कैंपस में ङ्क्षहदू-मुस्लिम छात्रों को बंटने नहीं देंगे। गंगा जमुनी तहजीब कैंपस में जिंदा है आगे भी रहेगी। छात्र नेताओं ने लंबी-लंबी तकरीर भी की।

यहां सब रहते हैं एक साथ

 छात्रसंघ अध्यक्ष सलमान इम्तियाज ने कहा कि इस सरकार के पास वोट मांगने के लिए कुछ नहीं हैं। ये सरकार पोलराइज करना चाहती है। इस घटना को ङ्क्षहदू-मुस्लिम रंग देना चाहती है। ये कभी नहीं होने देंगे। गंगा-जमुनी तहजीब का एएमयू लंबरदार रहा है। हमेशा से हमने कहा है कि ङ्क्षहदू व मुस्लिम भाई एक होकर पढ़ते हैं। खाना एक होकर खाते हैं। एक कमर में रहते हैं। मोदी, अमित शाह व आरएसएस की विचारधारा की निंदा करते हैं। एएमयू क्या पूरे ङ्क्षहदुस्तान से इस विचारधारा को निकाल कर फेंकना है।

वीमेंस कॉलेज की छात्राएं पहुंची समर्थन में

हर बार की तरह इस बार भी एएमयू छात्रों को वीमेंस कॉलेज की छात्राओं का समर्थन मिला। बड़ी संख्या में छात्राएं दोपहर में बाबे सैयद पर पहुंची और छात्राओं के  समर्थन में हम एक हैं का नारा दिया। छात्रों पर हमले के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया।

Posted By: Mukesh Chaturvedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप