अलीगढ़, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ अकराबाद क्षेत्र के एक गांव में रविवार को हुई किशोरी की हत्या के मामेल कोई सुराग हाथ नहीं लग सका है। पुलिस रात भर खेतों में ही सबूत खोजने में जुटी रही। पड़ोसी गांव के दो युवकों पर शक जताया गया है। पुलिस उनकी भी तलाश में लगी हुई है। 

दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका : सासनीगेट थाना क्षेत्र के जयगंज इलाके की एक 16 वर्षीय किशोरी की अकराबाद क्षेत्र के एक गांव में ननिहाल है। जहां वह कई साल से रह रही थी। पीड़ि‍त पक्ष के अनुसार किशोरी सुबह करीब 11 बजे खेतों से पशुओं को चारा लेने गई थी। शाम तक घर न पहुंची तो उसकी तलाश शुरू हुई। देर शाम ग्रामीणों को किशोरी का शव गांव के बाहर गेहूं के खेत में नग्नावस्था में पड़ा मिला। पास ही कपड़े पड़े हुए थे। ग्रामीण दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताते हुए हंगामा करने लगे। 

चारा लेने निकली थी किशोरी: सुबह से लापता किशोरी को तलाश रहे ग्रामीणों को जैसे ही नग्नवस्था में शव मिला तो वे आक्रोशित हो गए। वे वारदात को अंजाम देने वाले हत्यारों की अविलंब गिरफ्तारी की मांग करने लगे। पुलिस के देरी से पहुंचने पर ग्रामीण खासे उग्र हो गए और मौके पर डीएम, एसएसपी को बुलाने की मांग करने लगे। ग्रामीण पड़ोसी गांव के दो युवकों पर हत्या करने का शक जताने लगे। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए रात में ही एसएसपी मुनिराज, एसपी देहात शुभम पटेल, सीओ बरला सुमन कनौजिया समेत कई थानों का पुलिस फोर्स पहुंच गया।

अधिकारियों ने ग्रामीणों को मामले में जांच कर दोषियों को जल्द पकड़ने का भरोसा दिया, लेकिन जैसे ही पुलिस ने किशोरी के शव को उठवाने का प्रयास किया तो वे भड़क गए और पुलिस अफसरों से नोंक-झोंक करने के साथ ही पथराव भी कर दिया। सिर में पत्थर लगने से इंस्पेक्टर गंगीरी प्रवेंद्र सिंह घायल हो गए। किसी तरह पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लिया और शव को पोस्टमार्टम को भिजवाया। ग्रामीणों की मांग थी कि पहले हत्या करने वालों को पुलिस पकड़े फिर शव को यहां से लेकर जाए। इस बीच ग्रामीणों ने लकड़ी व अवरोधक डालकर रास्ते को अवरुद्व कर दिया। अफसरों की गाड़ियां जाने लगी तो उन्होंने ईधन में आग लगा दी।

 

500 कदम की दूरी पर मिला शव: दलित किशोरी का शव जिस गेंहूं के खेत में पड़ा मिला वह गांव से करीब 500 कदम की दूरी पर है। घटनास्थल पर मिले साक्ष्यों से साफ हो रहा था कि किशोरी ने हत्यारों का मरते दम तक कड़ा विरोध किया था। 

10 साल से रह रही थी ननिहाल में : किशोरी के माता-पिता शहर के जयगंज इलाके में रहते हैं। चार भाई-बहनों में दूसरे नंबर की किशोरी जब छह साल की थी तभी ननिहाल में चली गई थी और वहीं रहने लगी थी। कभी-कभी वह शहर में आकर माता-पिता व भाई-बहनों से मिलने आ जाती थी या कभी खुद माता-पिता भी मिलने गांव में चले जाते थे। गांव में चर्चा है कि किशोरी मानसिक रूप से दिव्यांग थी। 

गायब होने की खबर पर दौड़ पड़े स्वजन : किशोरी के गायब हो जाने व सुराग न लगने की खबर पर शहर से माता-पिता व स्वजन देर शाम जब तक गांव पहुंचे तब तक उसका शव गेंहू के खेत में पड़ा मिल गया। स्वजन किशोरी के शव को देखकर विलाप करने लगे। मां तो बेसुध तक हो गई। जयगंज में भी आस-पड़ोसी एकत्रित हो गए और घटना की निंदा करने लगे। 

इंजन पर पानी लगा रहे युवकों पर जता रहे शक : ग्रामीण किशोरी की हत्या को लेकर घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर पड़ोसी गांव के दो युवकों पर शक जता रहे हैं। जो चल रहे इंजन ट्राली पर मौजूद थे। घटना के बाद से उनके गायब हो जाने से संदेह पैदा हो रहा है। पुलिस संदिग्धों की तलाश में जुटी है। 

रात में ही कराया गया पोस्टमार्टम : किशोरी के शव का रात में ही पुलिस पोस्टमार्टम करा रही है। इसके लिए एक पैनल गठित किया गया है और वीडियो कैमरे की निगरानी में पोस्टमार्टम किया जाएगा।

हत्या के राजफाश के लिए पांच टीमें गठित: एसएसपी मुनिराज का कहना है कि हत्या की जांच की जा रही है। ग्रामीणों ने पड़ोसी गांव के दो युवकों पर शक जताया है। हत्या के राजफाश के लिए पांच टीमें गठित की गई हैं। पुलिस हर एंगल पर जांच कर रही है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप