Move to Jagran APP

UP Govt 2022: योगेंद्र उपाध्याय ने छात्र राजनीति से योगी सरकार में मंत्री बनने का तय किया सफर, दक्षिण सीट पर तीसरी बार खिला कमल

UP Yogi Adityanath Cabinet 2.0 आगरा की दक्षिण विधानसभा सीट पर भाजपा के विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने लगातार तीसरी बार भगवा फहराया। आगरा की ये सीट काफी चर्चा में रहती है। उनके मंत्री बनने के बाद ताजनगरी में हर्ष का माहौल है।

By Abhishek SaxenaEdited By: Published: Fri, 25 Mar 2022 04:50 PM (IST)Updated: Fri, 25 Mar 2022 04:50 PM (IST)
योगेंद्र उपाध्याय को भी मंत्रीमंडल में स्थान मिला

आगरा, जागरण टीम। छात्र राजनीति से पार्षद और विधायक तक का सफर तय करने वाले ब्राह्मण समाज के बड़े चेहरे योगेंद्र उपाध्याय को भी मंत्रीमंडल में स्थान मिला है। उनके पास शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री आवास से बुलावा आया था। योगेंद्र उपाध्याय ने आगरा की दक्षिण विधानसभा सीट पर जीत की हैट्रिक लगाई है।

वाल्मीकि समाज में है अच्छी पकड़

योगेंद्र उपाध्याय के दो बेटे हैं। दोनों ही उनको राजनीति में भरपूर सहयोग करते हैं, तो वाल्मीकि समाज में विशेष पकड़ मानी जाती है। सफाई कर्मचारी की लाकअप में मौत के बाद विधायक शहर में नहीं थे तो बेटों ने ही कमान संभाली थी। उनकी पत्नी प्रीति उपाध्याय सामाजिक रूप से सक्रिय रहती हैं। कोरोना काल में उन्होंने पुत्रवधुओं के साथ मिलकर घर बनाए हुए मास्क वितरिक किए थे।

योगेंद्र उपाध्याय का ये है सफर

- बाल स्वयंसेवक रहे और मंडल बौद्धिक प्रमुख का दायित्व संभाला।

- 1974 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्य बने तो नगर मंत्री से लेकर प्रदेश कार्यकारिणी में सदस्य बने।

- 1987 में भाजपा के सदस्य बने और महानगर मंत्री, महामंत्री के साथ प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बने।

- वर्ष 1989 नगर महापालिका के पार्षद बने तो पार्षद दल के मुख्य सचेतक भी रहे।

- वर्ष 2012 में आगरा दक्षिण से पहली बार विधायक बने।

- वर्ष 2017 में जीत का आंकड़ा दोगुना कर 53 हजार वोट से जीत विधायक बने, भाजपा विधानमंडल दल का सचेतक बनाया गया।

- वर्ष 2020 में भाजपा विधानमंडल दल का मुख्य सचेतक बनाया गया।

वर्ष 2017 का परिणाम

दक्षिण सीट पर सबसे ज्यादा 26 प्रत्याशी मैदान में थे। जिसके चलते यहां दो ईवीएम मशीनें लगानी पड़ी थीं। सबसे अाखिर में इस सीट का चुनाव परिणाम घोषित किया गया था। जिसके चलते इस विधानसभा सीट का परिणाम भी सबसे आखिर में घोषित किया गया था। भाजपा प्रत्याशी योगेंद्र उपाध्याय को 1,11,882 वोट मिले थे। जबकि बसपा प्रत्याशी जुल्फिकार अहमद भुट्टो को 57660 वोट मिले थे। योगेंद्र ने बसपा प्रत्याशी को 54,225 मतों से हराया था। जबकि कांग्रेस व सपा गठबंधन के प्रत्याशी नजीर अहमद तीसरे स्थान पर रहे थे।

वर्ष 2012 का परिणाम

कुल 59.85 फीसद वोट पड़े थे। भाजपा के योगेंद्र उपाध्याय को 74,324 एवं बसपा के जुल्फिकार अहमद भुट्टो को 51,364 वाेट मिले थे। कांग्रेस प्रत्याशी नजीर अहमद 39,962 वोटों के साथ तीसरे एवं सपा के मोहम्मद शरीफ उस्मानी 13,408 वाेट पाकर चौथे स्थान पर रहे थे।  


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.