आगरा, जागरण संवाददाता। पुलिस की नाकामी ने तीन सप्ताह के अबोध को शिशु गृह पहुंचा दिया। पुलिस अबाेध को एसएन में भर्ती कराने वाले मोइन को तलाश नहीं कर सकी। जिससे उसकी मां के बारे में जानकारी करके अबोध को वहां दिया जा सकता। वहीं पुलिस द्वारा मोइन का पता लगाने में लापरवाही बरतने पर उसके स्वजन में आक्रोश है। स्वजन का कहना है कि मामले में वह सोमवार को कलक्ट्रेट पर धरना-प्रदर्शन करेंगे।

एसएन मेडिकल कालेज में सात अगस्त की रात को अबोध को भर्ती कराया गया था। आठ अगस्त को उसे भर्ती कराने वाले युवक के गायब होने पर स्टाफ ने एमएम गेट थाने को सूचना दी। छानबीन में पता चला कि अबोध को सिकंदरा के बाईंपुर निवासी मोइन ने भर्ती कराया था। पुलिस ने मोइन के स्वजन से पूछताछ की तो पता चला कि वह आठ अगस्त की दोपहर से गायब है। अबोध की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस ने मोइन की काल डिटेल निकलवाने की कहा था। जिससे उसके करीबी लोगों के बारे में पता करके उनकी मदद से मोइन और अबोध तक पहुंचा जा सके।

दो सप्ताह बीतने के बाद भी पुलिस अबोध की मां के बारे में गुत्थी को नहीं सुलझा सकी है। वहीं, दो सप्ताह से लापता मोइन का सुराग न लगने से उसके स्वजन में भी आक्रोश है। स्वजन ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि पुलिस की लापरवाही के चलते उनके भाई का अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है। पुलिस मोइन की काल डिटेल से उसकी अंतिम लोकेशन का पता लगा सकती थी।वह किन लोगों के संपर्क में था, उसकी किससे बातचीत होती थी। पुलिस जरा सी कोशिश करे तो सारी गुत्थी सुलझ सकती है।

एसएन से 19 अगस्त को डिस्चार्ज होने पर अबोध को चाइल्ड लाइन ने बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया। समिति ने उसे राजकीय शिशु एवं बाल गृह में रखने के आदेश दिए। वहीं, मोइन के भाई मुबीन ने बताया कि परिवार के लोग दो बार एसएसपी कार्यालय जाकर अधिकारियों से मिल चुके हैं। अधिकारियों द्वारा निर्देश के बावजूद थाना पुलिस लापरवाही बरत रही है। मोइन का पता लगा उसकी बरामदगी का प्रयास नहीं कर रही है। उन्हें मोइन के साथ अनहोनी की आशंका सता रही है। मुबीन ने बताया कि सोमवार को वह परिवार के साथ कलक्ट्रेट पर धरना प्रदर्शन करेंगे।

अबोध को भर्ती कराने वाले मोइन की तलाश की जा रही है। अबोध को स्वास्थ्य लाभ होने पर उसे राजकीय शिशु एवं बाल गृह में भेजा गया है।

अर्चना सिंह,  सीओ कोतवाली

 

Edited By: Prateek Gupta