आगरा, प्रभजोत कौर टरबन फॉर मास्क अभियान ताजनगरी में तेज गति से अपनी दिशा में बढ़ रहा है। सिख परिवारों से मिलने वाली पुरानी पगड़ियों से पांच हजार मास्क तैयार हो चुके हैं। जल्द ही इनका वितरण जरूरतमंदों को किया जाएगा।

बता दें कि सिखों द्वारा टरबन फॉर मास्क अभियान देश के कई हिस्सों में चल रहा है। इस अभियान में पुरानी पगड़ियों से मास्क तैयार कर जरूरतमंदों को वितरित किए जांएगे। जुलाई के पहले सप्ताह में ताजनगरी में भी इस अभियान की शुरुआत गुरुद्वारा गुरू का ताल से हुई थी। अभियान में अब तक शहर के सैंकड़ों सिख परिवार जुड़ चुके हैं। पुरानी पगड़ियों को एकत्र करने के लिए सेंटर भी बना दिए गए हैं।

क्या है यह अभियान

इस अभियान के तहत घर-घर जाकर सिख समाज के लोग पुरानी पगड़ियां एकत्रित करेंगे। उन्हें एक विशेष प्रक्रिया के तहत सैनिटाइज किया जाएगा और फिर मास्क तैयार होंगे। मास्क तैयार होने के बाद फिर से सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया से गुजरना होगा और फिर जरूरतमंदों तक इन्हें पहुंचाया जाएगा। ये मास्क कोरोना वारयस से लड़ने में सहायक साबित होंगे।

एक लाख मास्क का लक्ष्य

देश भर में पुरानी पगड़ियों से करीब दस लाख मास्क बनाने का लक्ष्य है। पहले चरण में करीब ढाई लाख मास्क तैयार होंगे। शुरुआत उत्तर भारत के शहरों से हो गई है। आने वाले दिनों में अन्य शहरों में भी इस मुहिम को गति दी जाएगी। आगरा में एक लाख मास्क वितरण का लक्ष्य है।

एक पगड़ी से बनेंगे 30 मास्क

एक पगड़ी से 25 से 30 मास्क तैयार हो जाएंगे। मास्क को अच्छी तरह से सैनिटाइज करने के बाद इन्हें पैक कर दिया जाएगा। सील पैक होने के बाद इन्हें जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जाएगा। मुख्य रूप से सूती और मलमल की पुरानी पगड़ियों से ये मास्क तैयार किए जाएंगे।

सेंटरों पर दे रहे पगड़ियां

इस अभियान को सुखमनी सेवा सभा द्वारा गति दी जा रही है। गुरुद्वारा विजय नगर और गुरुद्वारा गुरू का ताल को सेंटर बनाया गया है, जहां सिख परिवारों से पुरानी पगड़ियां जमा की जा रही हैं। इन पगड़ियों से सिख समाज के साथ ही सिंधी समाज की महिलाओं द्वारा मास्क तैयार किए जा रहे हैं। महिलाएं अपने घरों में ही मास्क सिल रही हैं।

इस अभियान में सिख समाज से ही नहीं बलि्क हर धर्म से काफी सहयोग मिल रहा है।सिख परिवार जहां पगड़ियां दे रहे हैं तो बाकी धर्म के लोग कपड़े दे रहे हैं। चार से पांच स्थानों पर इनसे मास्क तैयार हो रहे हैं।

- वीर महेंद्र पाल सिंह, सुखमनी सेवा सभा

अब तक हमारे पास 200 से ज्यादा पगड़ियां आ चुकी हैं। पांच हजार मास्क तो तैयार हो चुके हैं। जो भी लोग कपड़े या पगड़ी देना चाहते हैं वे गुरुद्वारा विजय नगर और गुरु का ताल में दे सकते हैं।

बंटी ग्रोवर, समन्वयक 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस