Move to Jagran APP

Monsoon Rain: टिटहरी पक्षी ने दिए हैं चार अंडे-चार महीने होगी बारिश!, मानसून को लेकर आखिर क्या है भविष्यवाणी

Monsoon Rain टिटहरी के अंडों से मानसून की अच्छी बारिश का शुभ संकेत। मौसम विशेषज्ञों का भी अनुमान है कि इस बार मानसून की अच्छी बारिश हो सकती है। गर्मी अधिक पड़ी है 40 दिन तक 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक पारा रहा है। इससे वातावरण में जलवाष्प अच्छी मात्रा में हैं। जैसे ही तापमान में गिरावट आएगी बारिश शुरू हो जाएगी। पहले दो महीने तेज बारिश हो सकती है।

By Ajay Dubey Edited By: Abhishek Saxena Sat, 22 Jun 2024 01:01 PM (IST)
आगरा: खेल गांव में अंडों के पास बैठी टिटहरी। जागरण

जागरण संवाददाता, आगरा। भीषण गर्मी के बीच खेल गांव में टिटहरी पक्षी ने ऊंचे स्थान पर चार अंडे देकर मानसून की अच्छी बारिश के शुभ संकेत दिए हैं। यहां आने वाले डाक्टर से लेकर कारोबारी इन अंडों को देखकर अच्छी बारिश की उम्मीद लगाए बैठे हैं।

चार अंडे दिए हैं इसलिए धूप से तप रही जमीन को ठंडी करने के लिए चार महीने बारिश हो सकती है, ऐसी संभावना जताई जा रही है। मौसम विभाग ने 26 जून से मानसून की बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान की तरह मध्य प्रदेश सहित देश के कई हिस्सों में टिटहरी के अंडों से मानसून की बारिश का अनुमान लगाया जाता है। कई किताबों में भी इसका उल्लेख है। टिटहरी का प्रजनन काल मई से अगस्त तक होता है, टिटहरी अधिकतम चार अंडे देती है। 18 से 21 दिन में चूजे बाहर निकल आते हैं।

पर्यावरणविद डा शरद गुप्ता ने बताया कि खेल गांव में फुटबाल के मैदान के पास ऊंचाई पर टिटहरी ने चार अंडे दिए हैं। टिटहरी जितने अंडे देती है, उतने ही महीने बारिश होती है ऐसा माना जाता है। ऊंचाई पर अंडे देने पर ज्यादा बारिश होती है और जमीन पर अंडे देने पर कम। अंडे किस तरह से रखे हैं इससे भी अनुमान लगाया जाता है।

ये भी पढ़ेंः Seventh Pay Scale: सातवां वेतनमान न पाने वाले कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, यूपी सरकार ने महंगाई भत्ता...

टिटहरी के चार अंडों में से दो अंडे का आगे का हिस्सा आसमान की तरफ है, यह अनुमान है कि दो महीने तेज बारिश होगी। मौसम विभाग ने 26 जून से मानसून की बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है, टिटहरी के अंडों से लगाए गए अनुमान के तहत अक्टूबर तक बारिश हो सकती है।

ये भी पढ़ेंः UP News: वक्फ संपत्तियों पर अवैध कब्जा या मुनाफा कमाने वालों की अब खैर नहीं, यूपी सरकार जल्द ला रही नई नीति

650 एमएम होती है औसत बारिश

जिले में 650 एमएम मानसून की बारिश होती है। जून के अंतिम सप्ताह से सितंबर तक बारिश होती रहती है। मगर, पिछले कुछ वर्षों से लगातार बारिश नहीं हो रही है। पिछले पांच वर्षों में 2021 में सबसे कम 430 एमएम बारिश हुई थी।

टिटहरी के अंडों से मानसून की बारिश के सटीक अनुमान का कई किताबों में उल्लेख है, पिछले कुछ वर्षों में टिटहरी के अंडे से बारिश का अनुभव भी किया है। चार अंडे से चार महीने तक बारिश की उम्मीद है। डा शरद गुप्ता, पर्यावरणविद

गर्मी अधिक पड़ी है इससे बारिश अच्छी होने की उम्मीद है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान भी अच्छी बारिश का है। राजस्थान की तरफ से चलने वाली गर्म हवाओं से पिछले कुछ वर्षों से आगरा की बारिश के पैटर्न में बदलाव आया है। डा रंजीत कुमार, मौसम विशेषज्ञ, दयालबाग शिक्षण संस्थान

दिन में लू और शाम को राहत

मौसम का मिजाज दो दिन से बदल गया है। शुक्रवार दिन में तेज धूप निकलने के साथ ही लू चलने से लोग परेशान रहे। अधिकतम तापमान 41.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, न्यूनतम तापमान 27.7 डिग्री सेल्सियस रहा। शाम को मौसम बदल गया, हवा में ठंडक रही।