आगरा, जागरण संवाददाता। न्यू आगरा क्षेत्र से किशोरी का अपहरण करने के मामले का नाटकीय अंदाज में पटाक्षेप हो गया है। किशोरी अपनी मर्जी से घर से गई थी। लड़की के पिता ने अपहरण के शक में दर्ज कराई गई रिपोर्ट में जिस महताब को नामजद किया था, उसका इस बार कोई रोल नहीं निकला लेकिन पुलिस ने दूसरे मामले में उसे और उसके स्‍वजनों को जेल भेज दिया है।

ताजगंज क्षेत्र की साढ़े सोलह वर्ष की किशोरी न्यू आगरा क्षेत्र से 23 फरवरी को गायब हुई थी। सीसीटीवी फुटेज में किशोरी के साथ एक युवक जाता हुआ दिखा था। उसने किशोरी के सिर पर हाथ फेरा था। इसके थोड़ी देर बाद वह युवक बुर्का पहनाकर लड़की को ले जाता दिखा। स्वजन ने किशोरी को अगवा करने वाले युवक की पहचान महताब राणा के रूप में की। किशोरी के पिता ने न्यू आगरा थाने में अपहरण का नामजद मुकदमा दर्ज करा दिया। दरअसल आरोपित महताब राणा ने वर्ष 2018 में किशोरी का अपहरण किया था और उसे अपने घर पर बंधक बनाकर रखा था। आगरा पुलिस के अनुसार सीसीटीवी फुटेज में किशोरी के साथ दिख रहा युवक, पठान सूट पहने था, इसलिए किशोरी के पिता ने पहनावा और कद काठी देखकर उसकी पहचान महताब राणा के रूप में करते हुए नामजद मुकदमा दर्ज कराया था।

पुलिस ने महताब की पत्नी भूरी और दो भाभी गिरफ्तार कर जेल भेज दीं। महताब के भाई गुलफाम को हिरासत में लेकर पूछताछ की। इसके बाद कई रिश्तेदारियों में पुलिस ने दबिश दी। लेकिन महताब के भाई से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने दूसरी दिशा में भी जांच शुरू कर दी और एक मार्च की रात किशोरी को दिल्‍ली के पीजी से बरामद कर लिया। किशोरी आगे की पढ़ाई जारी रखने के इरादे से अपने दो दोस्‍तों की मदद से भागी थी। इनमें से एक दोस्‍त ग्‍वालियर जेल में पहले से ही बंद है और दूसरे दोस्‍त को पुलिस ने आगरा में जेल भेज दिया है।

इधर दो मार्च को पुलिस ने किशोरी के कोर्ट में 164 के बयान कराए, इसमें किशोरी ने खुद घर से भागना स्‍वीकार किया। साथ ही उसने महताब राणा और उसके स्‍वजनों के खिलाफ बयान दिया कि वर्ष 2018 में महताब राणा ने अपहरण किया था और घर पर बंधक बनाकर मारपीट की और जान से मारने की धमकी दी थी। यह मुकदमा उस समय थाना ताजगंज में दर्ज हुआ था। इसके बाद भी महताब समय-समय पर किशोरी को धमकाता रहा और मानसिक उत्‍पीड़न करता रहा। एसएसपी आगरा बबलू कुमार ने बताया कि किशोरी के बयान के आधार पर मुकदमा दर्ज कर आरोपित महताब राणा, उसकी पत्‍नी, दो भाभी और एक भाई को जेल भेजा गया है। जबकि महताब के दो भाई अभी फरार चल रहे हैं। उनकी तलाश की जा रही है।

Edited By: Prateek Gupta