आगरा, जागरण संवाददाता। सिरफिरे प्रेमी के शक ने एक युवती की जिंदगी को खत्म कर दिया। शातिर ने प्रेमिका की मौत को हादसा दर्शाने की कोशिश की लेकिन युवती के पिता की शिकायत पर पुलिस ने मामले में छानबीन कर हत्यारोपित को दबोच लिया।

युवक ने बोलेरो से प्रेमिका को कुचलने के बाद खुद को उसका पति बताकर शव पुलिस से सुपुर्दगी में लिया। इसके बाद उसक अंतिम संस्कार भी कर दिया। पुलिस ने हत्यारोपित प्रेमी विजय को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय में प्रस्तुत किया, वहां से उसे जेल भेज दिया।

ये भी पढ़ें... Agra Fort देखने जा रहे हैं तो ये हैं अंदर की खूबसूरत जगहें, देखकर हो जाएगा दिल खुश

अस्पताल में नर्स थी युवती

सीओ छत्ता सुकन्या शर्मा के अनुसार फिरोजाबाद के सिरसागंज की रहने वाली युवती हरीपर्वत स्थित दिल्ली गेट के एक अस्पताल में नर्स थी। वह नुनिहाई में किराए पर रहती थी। दिल्ली गेट पर दूसरे अस्पताल में काम करने वाले विजय यादव निवासी नगला मोहन थाना फरिहा फिरोजाबाद की युवती से दाेस्ती थी। उसके यहां आना-जाना था। 26 सितंबर को युवती मंडी समिति शराब ठेके पास के मिली लहुलूहान हालत में मिली थी। किसी वाहन द्वारा टक्कर मारना बताया गया था।

ये भी पढ़ें... Agra Fort: कभी शान था तख्त-ए-ताउस, एक हजार किलो शुद्ध सोने के साथ जड़े थे हीरे, सबसे पहले बैठा था शाहजहां

बेटी की मौत के बाद पिता ने जताया था हत्या का शक

युवती के पिता ने विजय पर हत्या का शक जताया था। छानबीन में पता चला कि उसकी साजिश के तहत हत्या का पता चला। गिरफ्तार विजय ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि युवती उस पर शादी का दबाव बना रही थी। उसे शक था कि युवती अन्य लड़कों से मोबाल पर बात करने लगी है। उसने युवती की हत्या की साजिश रची।

बोलेरो से कुचल प्रेमिका को कुचला

युवती की हत्या एक हादसा लगे, इसके लिए हत्यारोपित ने दोस्त अंशुल को उसकी बोलेरो के साथ 26 सितंबर को आगरा बुलाया। युवती को फोन कर मंडी समिति शराब ठेके पास बुलाने के बाद दोनों उसे कुचलकर भाग गए। राहगीरों की सूचना पर पुलिस ने उसे पास के अस्पताल में भर्ती कराया। यहां कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई। सीओ के अनुसार दूसरे आरोपित अंशुल की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें... Agra Fort: शाहजहां के आखिरी लम्हों की ये दास्तां, एक बुर्ज में कैद रहा था ताजमहल बनवाने वाला शहंशाह

मिसिंग केस दर्ज कराने पहुंचा था प्रेमी

युवती को बोलेरो से कुचलने के बाद विजय ने थाने पर उसकी गुमशुदगी दर्ज कराने का प्रयास किया था। पुलिस को बताया था कि वह कई घंटे से अपने कमरे पर नहीं आई है। जिससे कि पुलिस को उस पर किसी तरह का शक न हो। अगले दिन थाने पहुंचकर खुद को युवती का पति बताकर उसका शव अपनी सुपुदर्गी में लेकर अंतिम संस्कार कर दिया था।

सीसीटीवी में पुलिस को बोलेरो के फुटेज मिले

उप निरीक्षक प्रशांत सिंह ने विजय की काल डिटेल देखीं, वह जिस समय युवती के गायब हाेने की बात कर रहा था। तब युवती से उसकी मोबाइल पर बात हुई थी। सीसीटीवी कैमरों को चेक करने पर युवती को टक्कर मारकर भागने की वाली बोलेरो के फुटेज भी पुलिस को मिल गए। बोलेरो और विजय की लोकेशन एक ही दिशा में थी, जिससे पुलिस को सुराग मिला। बोलेरो के नंबर और मालिक का पता चलने के बाद सारी तस्वीर साफ हो गई।

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट