आगरा, जागरण संवाददाता। सर्च इंजन गूगल पर एक कंपनी का कस्टमर केयर नंबर सर्च करने पर सेवानिवृत्त निरीक्षण साइबर अपराधियों के जाल में फंस गए।साइबर अपराधियों ने उन्हें काल करके मोबाइल में एप डाउनलोड करा दिया। इसके बाद खाते से 44439 रुपये पार कर लिए। पीड़ित ने साइबर क्राइम पोर्टल के हेल्प लाइन नंबर पर शिकायत की। इस मामले में सिकंदरा थाने में धोखाधड़ी और आइटी एक्ट की धारा में मुकदमा दर्ज हुआ है।

शॉपिंग वेबसाइट से एक प्लाजो खरीदा था

सेवानिवृत्त निरीक्षक शीलेश कुमार यादव सिकंदरा के दहतोरा में स्थित शांति रेजीडेंसी में रहते हैं। उन्होंने फ्लिपकार्ट से एक प्लाजो खरीदा था। बाद में उसे रिटर्न करने के लिए 20 जून को कंपनी का कस्टमर केयर नंबर गूगल पर खोजा। उन्हें एक नंबर मिल गया। उस पर कई बार काल किया, लेकिन रिसीव नहीं हुआ। बाद में एक अंजान नंबर से काल आई। काल करने वाले ने कहा कि वह अमित त्यागी बोल रहा है। कंपनी में सर्विस टीम एग्जीक्यूटिव है। इसके बाद रिटर्न निवेदन पर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

रिटर्न के लिए बातचीत की

रिटर्न के लिए बातचीत भी की।उसने एनीडेस्क एप मोबाइल में डाउनलोड करा दिया। इसके बाद मैसेज कराकर खाते से दो बार में 44439 रुपये निकाल लिए।उन्हें बैंक से मैसेज आने पर जानकारी हुई। बाद में आरोपित ने अपना नंबर बंद कर लिया। इसके बाद कई और बार उनके मोबाइल पर काल आए। ठगी का पता चलने पर उन्होंने साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराई। साइबर क्राइम पोर्टल के हेल्पलाइन नंबर 1930 पर भी शिकायत पंजीकृत करा दी। अब इस मामले में थाना सिकंदरा में मुकदमा दर्ज किया गया है।

बरतें सावधानी

- किसी भी कंपनी का कस्टमर केयर नंबर जानने के लिए उसकी वेब साइट पर जाकर सर्च करें।

- किसी के कहने पर अपने मोबाइल में रिमोटली एक्सिस एप डाउनलोड न करें।

- गूगल से कस्टर केयर नंबर सर्च करने के लिए सावधानी बरतें। 

Edited By: Abhishek Saxena