Move to Jagran APP

आगरा में बाल श्रम का नया तरीका, बच्चों को दिया जा रहा शादी की दावत और 200 रुपये का लालच

Child Labor in Agra अछनेरा के रहने वाले किशोरों काे ठेकेदारों ने दिया था लालच। बाल कल्याण समिति के सामने पेश होने पर खुला राज। समिति ने किशोरों के स्वजन को बुलाकर उनसे बाल श्रम न कराने की हिदायत दी।

By Tanu GuptaEdited By: Mon, 28 Feb 2022 05:50 PM (IST)
आगरा में बाल श्रम का नया तरीका, बच्चों को दिया जा रहा शादी की दावत और 200 रुपये का लालच
बाल कल्याण समिति के सामने खुला बाल श्रम का सच।

आगरा, जागरण संवाददाता। बच्चों को शादी की दावत खिलाने और रुपये का लालच देकर बाल श्रम के लिए तैयार किया जा रहा है। मामला बाल कल्याण समिति के सामने किशोरों को प्रस्तुत करने पर खुला। जिसके बाद समिति द्वारा ऐसे ठेकेदारों पर शिकंजा कसने की तैयारी है। उनके खिलाफ कार्यवाही के लिए पुलिस की मदद लेगी।

बाल कल्याण समिति के सामने दस दिन के दौरान इस तरह के दो मामले सामने आए। दोनों ही मामले अछनेरा थाना क्षेत्र से संबंधित हैं। यहां के चार बच्चों को एक ठेकेदार 18 फरवरी को अपने साथ यह कहकर ले गया कि वह शादी में चल रहे हैं। वहां पर दावत खिलाने के साथ 200 रुपये भी मिलेंगे। किशोरों से मथुरा में काम कराने के बाद उन्हें दो-दाे सौ रुपये देकर 19 फरवरी की रात को मथुरा रेलवे स्टेशन पर छोड़कर चला गया। मथुरा रेलवे चाइल्ड लाइन ने उन्हें लावारिस घूमता देखकर पूछताछ की तो किशोरों ने पूरे मामले की जानकारी दी। जिसके बाद किशोरों को मथुरा बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया। मामला आगरा से संबंधित होने के चलते उन्हें यहां भेजा गया।

इसी तरह एक अन्य ठेकेदार 20 फरवरी को अछनेरा से सात किशोरों को लेकर गया। उनके साथ भी यही किया। इनमें कुछ किशोरों से रेस्टोरेंट में भी काम कराया गया। उन्हें भी काम कराने के बाद मथुरा रेलवे स्टेशन के बाहर छोड़ दिया गया। इनमें से दो-तीन किशोरों को रुपये दिए, बाकी को कुछ नहीं मिला। रेलवे चाइल्ड लाइन मथुरा ने इन किशोरों को भी वहां की बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया। जिन्हें आगरा भेजा गया। समिति ने किशोरों के स्वजन को बुलाकर उनसे बाल श्रम न कराने की हिदायत दी। इसके साथ ही स्वजन से ऐसे ठेकेदारों से सतर्क रहने की कहा।

दावत का लालच देकर किशोरो से बाल श्रम कराने वाले ठेकेदारों का बाल कल्याण समिति द्वारा पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। जिससे कि उनके खिलाफ कार्यवाही कराई जा सके।

मोनिका सिंह अध्यक्ष बाल कल्याण समिति