आगरा, जागरण संवाददाता। परूसन लगे सुआर सुजाना। बिंजन बिबिध नाम को जाना।।

चारि भांति भोजन बिधि गाई। एक एक बिधि बरनि न जाई।।

भावार्थ यह है मिथिलागनरी में राजा जनक द्वारा दी गई बढ़हार की दावत में चतुर रसोइए नाना प्रकार के व्यंजन परोस रहे हैं। उनका नाम कौन जानता है। चार प्रकार के भोजन की विधि कही गई है, उनमें से एक-एक विधि के इतने पदार्थ बने हैं कि उनका वर्णन नहीं किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें... Atithi Bhooto Bhava: जैकी श्राफ संग नजर आए आगरा के सुनील, शूट की तस्वीरों में देखिए 'जग्गू दादा' का अंदाज

जनकपुरी महोत्सव में शुक्रवार को दयालबाग स्थित बीएम फार्म हाउस में राजा जनक बने आलोक अग्रवाल और रानी सुनयना बनीं आरती अग्रवाल ने बरातियों व घरातियों को बढ़हार की दावत दी। सुसज्जित मंच पर भगवान श्रीराम, जानकी जी, लक्ष्मण, भरत आैर शत्रुघ्न के स्वरूप विराजे तो ऐसा लगा, मानो सिया-राम का दरबार सजा हो। स्वरूपों की पहली आरती भागवताचार्य सुभाषचंद शास्त्री गोवर्धन वालों ने की।

श्रीराम के स्वरूपों की उतारी आरती

रामचंद्र कृपालु भजमन... की गूंज के बीच लोगों की अनुरक्ति भगवान श्रीराम के चरणों में लगी रही। अंत में राजा जनक, रानी सुनयना, केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्य मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल, पूर्व मंत्री रामसकल गुर्जर ने स्वरूपों की आरती उतारी। बढ़हार की दावत में रानी सुनयना ने जानकी जी के स्वरूप को अपने हाथों से भाेजन कराया। लोगों ने प्रसादी ग्रहण की। बढ़हार से पूर्व भागवताचार्य सुभाषचंद शास्त्री के निर्देशन में राजा जनक व उनके स्वजनों ने देवी-देवताओं व पितरों का पूजन किया।

ये भी पढ़ें... Agniveer Bharti: 5 मिनट की दौड़ लगाने में 65 प्रतिशत युवा हो रहे फेल, शनिवार को इटावा और फिरोजाबाद के युवाओं का दिन

प्यारौ सुंदर सजौ है दरबार कि दर्शन कर लेओ जी...

समारोह में ब्रज के कलाकारों ने ब्रज वंदना, मयूर नृत्य, चरी नृत्य, चरकुला, डांडिया, ब्रज की होली, शिव-पार्वती नृत्य, उड़ते हुए हनुमान जी की झांकी समेत मनोहारी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कपिल कौशिक, दीपक शर्मा, गोपाल मुद्गल, प्रदीप शर्मा व विष्णु शास्त्री ने भजन प्यारौ सुंदर सजौ है दरबार कि दर्शन कर लेओ जी... और सजा दो घर को फूलों से, मेरे घर राम आए हैं... की प्रस्तुति देकर श्रद्धालुओं काे भाव-विभोर कर दिया।

मिलनी की रस्म निभाई

राजा जनक ने कुलगुरु वशिष्ठ और राजा दशरथ को दुशाला ओढ़ाकर मिलनी की रस्म निभाई। श्रीराम व अनुजों के स्वरूपों का टीका कर नारियल भेंट किया। रानी सुनयना ने जानकी जी को चुनरी भेंट की।

यह रहे मौजूद

रामलीला कमेटी के अध्यक्ष विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल, मंत्री राजीव अग्रवाल, अतुल बंसल, राहुल गौतम, आनंद मंगल, मनोज हौजरी, प्रसून मंगल, राजा जनक के पिता मुरारी लाल अग्रवाल, जनकपुरी महोत्सव समिति के अध्यक्ष सुरेशचंद गर्ग, संयोजक भरत शर्मा, मनोज अग्रवाल, राजीव जैसवाल, डा. आशीष अग्रवाल, अमित अग्रवाल, अलका अग्रवाल, गुंजन अग्रवाल, कुशाग्र, कार्तिक आदि मौजूद रहे। 

Edited By: Abhishek Saxena