आगरा, जागरण संवाददाता। एसएन मेडिकल कालेज में अबोध को छोड़कर गायब हुआ मुईन पहेली बन गया है। पुलिस इसे सुलझाने के बजाय और उलझाती जा रही है। 13 दिन में भी पुलिस उसे नहीं ढूंढ़ सकी। गुरुवार को बाल कल्याण समिति के आदेश पर अबोध को एसएन मेडिकल कालेज से राजकीय शिशु गृह में भेज दिया गया। अब उसके अभिभावक मिलने तक वहीं उसकी देखरेख की जाएगी।

एसएन मेडिकल कालेज में अबोध को सात अगस्त को भर्ती कराया गया था। इसके दूसरे दिन से ही मुईन गायब हो गया। एमएम गेट थाना पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। भर्ती करने वाले कागजात में मुईन का नाम लिखा था। उसका पता सिकंदरा के बाईंपुर का लिखा था। पुलिस ने वहां पता किया तो स्वजन ने पहले अपने बेटे से कोई संबंध न होने की बात कह दी। इसके बाद वे खुद मुईन को लापता बताने लगे। स्वजन ने अधिकारियों के सामने जाकर बेटे की तलाश कराने को भी आग्रह किया। इसके बाद मामला और उलझ गया।पुलिस ने गुत्थी सुलझाने को मुईन के मोबाइल की काल डिटेल निकलवाई। मगर, इसकी भी ठीक से स्टडी नहीं की गई। इसलिए अब तक पुलिस मुईन के संपर्क वाले किसी व्यक्ति तक नहीं पहुंच सकी है। स्वजन से भी पुलिस ने अभी तक सवाल नहीं किए। उसके घर में पत्नी और बच्चे रहते हैं। वे एसएन में भर्ती बच्चे के बारे में कुछ भी नहीं बता रहे। मुईन का उससे क्या संबंध है? यह जानने की पुलिस कोशिश नहीं कर रही है। चिकित्सकों ने बच्चे की हालत सामान्य बताई थी। इसके बाद चाइल्ड लाइन की जिला समन्वयक और पुलिस ने बच्चे को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया। बाल कल्याण समिति के आदेश पर बच्चे को गुरुवार शाम मलपुरा के सिरौली स्थित राजकीय शिशु गृह में पहुंचा दिया गया। अब उसकी देखरेख वहीं होगी। इंस्पेक्टर एमएम गेट अवधेश कुमार अवस्थी अभी तक जांच की बात ही कह रहे हैं। उनका कहना है कि अभी बच्चे के स्वजन और मुईन के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी है।

पुलिस की लापरवाही

- बच्चे को एसएन मेडिकल कालेज में छोड़ने के बाद मुईन गायब हुआ है। मगर, उसके स्वजन ने अभी तक गुमशुदगी दर्ज नहीं कराई है। उनके घर जाकर अभी तक पुलिस ने पूछताछ या जांच नहीं की।

- पुलिस मुईन की काल डिटेल की जांच करने को कह रही थी, लेकिन अभी तक काल डिटेल की कोई स्टडी नहीं की गई। अगर ऐसा किया होता तो मुईन के संपर्क वालों तक पुलिस पहुंच जाती।

- एसएन मेडिकल कालेज में मुईन बच्चे को भर्ती कराके गया था। पुलिस सीसीटीवी फुटेज चेक करके यह पता कर सकती थी कि उसके साथ कोई और था या नहीं? यह भी पुलिस ने नहीं किया।

- मुईन के स्वजन से सवाल करके पुलिस को कुछ लीड मिल सकती थी? मगर, पुलिस ने कोई प्रयास नहीं किया?

Edited By: Prateek Gupta