Move to Jagran APP

Apple Intelligence का आप भी कर रहे हैं इंतजार, क्या पुराने iPhone और Mac यूजर्स को मिलेगा सपोर्ट?

iPhone बनाने वाली कंपनी एपल ने बीते दिनों अपने एआई फीचर्स के सेट Apple Intelligence का एलान किया है। कंपनी अपने पुराने डिवाइसेस में इन फीचर्स का सपोर्ट नहीं देगी। एपल के एआई प्रोजेक्ट के हेड ने बताया कि यह ChatGPT की तरह कोई एप नहीं है। बल्कि ये ऑपरेटिंग सिस्टम में फीचर्स के इंटीग्रेटेड लेयर है जिसके लिए ज्यादा प्रोसेसिंग पावर लगती है।

By Subhash Gariya Edited By: Subhash Gariya Thu, 20 Jun 2024 02:30 PM (IST)
Apple के सलेक्टेड डिवाइसेस में मिलेगा Apple Intelligence का सपोर्ट

टेक्नोलॉजी डेस्क, नई दिल्ली। दिग्गज टेक कंपनी Apple बीते दिनों अपने डिवाइसेस के लिए AI फीचर्स के सेट Apple Intelligence का ऐलान किया। कंपनी के एआई फीचर्स फिलहाल कुछ ही डिवाइसेस जैसे iPhone 15 Pro सीरीज के साथ M-सीरीज चिपसेट वाले लेटेस्ट iPad और MacBook पर ही काम करेंगे।

एपल ने फिलहाल आधिकारिक तौर पर यह नहीं बताया कि Apple Intelligence को कुछ ही डिवाइसेस तक सीमित क्यों किया गया है। हालांकि, एपल के एआई प्रोजेक्ट के हेड John Giannandrea का कहना है कि लार्ज लैंग्वेज मॉडल (LLM) को रन करने के लिए आवश्यक कम्प्यूटेशनल पावर रिक्वायरमेंट के चलते एपल इंटेलिजेंस को iPhone 15 Pro सीरीज और M-सीरीज चिपसेट वाले iPad और Mac के लिए सीमित किया गया है।

क्या पुराने डिवाइस में मिलेगा Apple Intelligence?

जॉन आगे बताते हैं कि कम्प्यूटेशनल रूप से LLM एप्लिकेशन काफी महंगा है। यह डिवाइस में बैंडविड्थ, ANE [Apple इंटेलिजेंस न्यूरल इंजन] के आकार पर निर्भर करता है। एआई फीचर्स यूजर्स को लैग फ्री एक्सपीरियंस दे इसके लिए यह बेहद जरूरी है। वे आगे बताते हैं Apple Intelligence के फीचर्स को बहुत पुराने डिवाइसेस पर भी चला सकते हैं, लेकिन यह इतने धीमा होगा कि यूजर्स को अच्छा एक्सपीरियंस नहीं मिलेगा।

कुछ ही एपल डिवाइसेस पर मिलेगा AI

एपल इंटेलिजेंस ChatGPT की तरह कोई एप या चैटबॉट नहीं है। बल्कि, यह Apple के ऑपरेटिंग सिस्टम के नए वर्जन में एम्बेडेड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की एक इंटीग्रेटड लेयर है। इसके फीचर्स मूल रूप से iPhone या Mac पर चलते हैं, इसलिए इन्हें बहुत अधिक प्रोसेसिंग पावर की आवश्यकता होती है, यही वजह है कि केवल चुनिंदा Apple डिवाइस ही इसे चला सकते हैं।

एपल इंटेलिजेंस के जरूरी रिक्वायरमेंट के लिए यूजर्स को लेटेस्ट Apple डिवाइस— या तो iPhone 15 Pro या नए M-सीरीज़ चिप वाला iPad में अपग्रेड करना होगा। ऐसे में यह साफ है कि पुराने iPhone 14 Pro Max या iPhone 15 में एपल इंटेलिजेंस का सपोर्ट नहीं मिलेगा।

यह भी पढ़ें: Apple Intelligence: नए AI टूल्स से लैस होंगे ये एपल डिवाइस, लिस्ट में चेक करें अपने आईफोन-आईपैड का नाम

Apple Intelligence के AI फीचर्स

एपल इंटेलिजेंस की AI फीचर्स की बात करें तो यूजर्स को नया Siri, AI-राइटिंग टूल्स, रीयल-टाइम कॉल ट्रांसक्रिप्ट और कई अन्य नए फीचर्स के साथ यूनीक इमोजी बनाने की कैपेसिटी शामिल है। यहां हम इन फीचर्स की लिस्ट शेयर कर रहे हैं।

  • राइटिंग टूल
  • प्रीओरिटी मैसेज और स्मार्ट रिप्लाई
  • प्रीओरिटी नोटिफिकेशन्स
  • इमेज प्लेग्राउंड और इमेज वेंड
  • रिकॉर्डिंग, ट्रांसस्क्रिबिंग और समराइजेशन
  • जेनमोजी
  • एआई फोटो सर्च, क्लीन अप और मैमोरी

आईफोन और मैकबुक की बढ़ेगी बिक्री

माना जा रहा है कि Apple के इस कदम से iPhone, Mac और iPad की बिक्री में तेजी देखने को मिलेगी। पिछले कुछ समय से एपल के डिवाइसेस की बिक्री में सुस्ती देखने को मिल रही थी। कुछ आलोचकों का यह भी कहना है कि एपल ने यह जानबूझकर किया है ताकि उसके डिवाइसों की बिक्री बढ़ें। हालांकि एपल ने इन आरोपों को खारिज किया है।

यह भी पढ़ें: Apple Intelligence: iPhone, iPad, MacBook को मिलेगी AI की ताकत, क्या है एपल इंटेलिजेंस और इसकी खूबियां