Move to Jagran APP

क्या होती है वायरलेस चार्जिंग टेक्नोलॉजी; कैसे करती है काम, फोन की बैटरी के लिए कितनी उपयोगी

Wireless Charging Technology वायरलेस चार्जिंग टेक्नोलॉजी लोकप्रिय चलन बनती जा रही है। हर यूजर जो फ्लैगशिप स्मार्टफोन खरीदते हैं वे वायरलेस चार्जर विकल्प भी चुन रहे हैं। आइये जानते हैं ये टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है और इसका बैटरी पर क्या असर पड़ता है। (फोटो एपल )

By Anand PandeyEdited By: Anand PandeyPublished: Sat, 08 Apr 2023 09:35 PM (IST)Updated: Sat, 08 Apr 2023 09:35 PM (IST)
What is Wireless Charging Technology How does it work wireless charging is bad

नई दिल्ली, टेक डेस्क। जैसे-जैसे फोन और अन्य उपकरण आकार और आकार में अधिक समान होने लगे हैं, और बिजली की आवश्यकताएं अधिक सामान्य हो गई हैं, कंपनियों के लिए अलग-अलग प्रकार की चार्जिंग को प्राथमिकता देना और अग्रणी बनाना आसान हो गया है। ज्यादातर उपभोक्ता जो फ्लैगशिप स्मार्टफोन में निवेश कर रहे हैं, वे वायरलेस चार्जर (Wireless Charger) या चार्जिंग विकल्प भी चुन रहे हैं।

loksabha election banner

फिर भी, कुछ लोग सुविधा के बावजूद अभी भी इस टेक्नोलॉजी को अपनाने से कतरा रहे हैं। यहां हम चर्चा करेंगे कि ये टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है और क्या यह आपके डिवाइस की बैटरी के लिए अच्छी है।

वायरलेस चार्जिंग (Wireless Charging ) क्या है?

वायरलेस चार्जिंग को इंडक्टिव चार्जिंग (inductive charging) के रूप में भी जाना जाता है, और यह वस्तुओं के बीच ऊर्जा स्थानांतरित करने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव बनाकर उपकरणों को चार्ज करने के लिए एलेक्ट्रोमग्नेटिस्म का इस्तेमाल करता है। कॉर्ड या कॉर्ड के साथ पारंपरिक चार्जिंग से सबसे बड़ा अंतर यह है कि वायरलेस चार्जिंग (Wireless Charging) के लिए डिवाइस को फिजिकल रूप से या सीधे चार्ज करने वाले स्रोत से कनेक्ट करने की आवश्यकता नहीं होती है।

Wireless Charging कैसे काम करता है?

आधुनिक स्मार्टफोन वायरलेस तरीके से चार्ज करते समय चार्जर से स्मार्टफोन में इलेक्ट्रिक एनर्जी ट्रांसफर करने के लिए इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंडक्शन का इस्तेमाल करते हैं। इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने के लिए आपको वायरलेस चार्जिंग और कॉम्पेटबल वायरलेस चार्जर का सपोर्ट करने वाले स्मार्टफ़ोन की जरूरत होगी।

जब आप वायरलेस चार्जिंग कॉम्पेटबल स्मार्टफोन को वायरलेस चार्जर पर रखते हैं तो तेजी से बदलता मैग्नेटिक फील्ड स्मार्टफोन के अंदर मौजूद कॉपर कॉइल के साथ इंटरैक्ट करता है। मैग्नेटिक फील्ड तब एक बंद लूप में इलेक्ट्रिक एनर्जी रिलीज करता है जो इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंडक्शन का इस्तेमाल करके उस मैग्नेटिक फिल्ड के साथ इंटरैक्ट करता है। जब इलेक्ट्रिक करंट रिलीज होता है, तो आपका स्मार्टफोन चार्ज हो जाता है।

वायरलेस चार्जिंग के डाउनसाइड्स:

वायरलेस चार्जिंग मौजूदा चार्जिंग सिस्टम जैसे क्विक चार्जिंग, फास्ट चार्जिंग या लाइटनिंग चार्जिंग से धीमी हो सकती है। वायरलेस चार्जिंग बहुत अधिक हीट रिलीज कर सकती है और संभावित रूप से डिवाइस के लाइफटाइम को कम कर सकती है या बैटरी को विस्फोट कर सकती है।

वायरलेस चार्जिंग के लिए चार्ज किए जा रहे उपकरणों को स्पेसिफिक लोकेशन (पॉवरमैट या डॉक) पर पर रखने की जरूरत होती होती है, अन्यथा फोन चार्ज नहीं होगा। अपने फोन को रात भर चार्ज पर छोड़ देने से बैटरी सुबह तक डेड यानी खाली हो सकती है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.