नई दिल्ली, पीटीआई। Clubhouse एक सीक्रेट ऑडियो बेस्ड सोशल मीडिया ऐप है, जिसकी बातचीत को काफी सीक्रेट माना जाता है। यह प्लेटफॉर्म अब तक ओपन फॉर ऑल नहीं था। मतलब कोई भी प्लेटफॉर्म से सीधे नहीं जुड़ सकता था। इसके लिए यूजर के पास इनवाइट लिंक को होना जरूरी था। हालांकि भारतीय यूजर्स को इनवाइट लिंक से Clubhouse के रूम से जुड़ना पसंद नहीं आ रहा था। ऐसे में कंपनी ने भारतीय यूजर्स के लिए Clubhouse ऐप में बदलाव किया है। ऐसे में यूजर्स अब Clubhouse से इनवाइट लिंक के जरिए सीधे जुड़ सकेंगे। मतलब Clubhouse की रूम की चर्चा में हिस्सा लेने के लिए यूजर्स को इनवाइट लिंक की जरूरत नहीं होगी। 

एंड्राइड प्लेटफॉर्म के लिए मई लॉन्च हुआ था Clubhouse ऐप 

कंपनी ने अपने ब्लॉग पोस्ट में कहा है कि Clubhouse पर डेली रूम की संख्या बढ़कर करीब एक मिलियन यानी 10 लाख हो गई है। Clubhouse को मिड-मई से लेकर अब तक करीब 1 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। Clubhouse को पिछले साल अप्रैल में iOS प्लेटफॉर्म के लिए लॉन्च किया गया था। साथ ही एंड्राइड प्लेटफॉर्म के लिए इस साल मई माह में लॉन्च किया गया था। ग्लोबल लॉन्च के हफ्तेभर के भीतर Clubhouse ऐप ने 20 लाख डाउनलोडिंग के आंकड़े को पार कर लिया है।

भारत में इन बदलावों से गुजरा है Clubhouse ऐप 

Clubhouse को भारत में इस साल मई माह में एंड्राइड प्लेटफॉर्म के लिए लॉन्च किया गया था, तभी से Clubhouse भारत में टॉप ट्रेंडिंग ऐप लिस्ट में है। कंपनी को कर्मचारियों की संख्या को 8 से 58 करना पड़ा है।साथ ही डेली रूम की संख्या बढ़कर 50,000 से ज्यादा हो गई है। पिछले हफ्ते ही Clubhouse ने एक नया चैट फीचर Backchannel को प्लेटफॉर्म से जोड़ा है, जो यूजर्स को अन्य लोगों को टेक्स्ट मैसेज भेजने की सुविधा उपलब्ध कराता है।