नई दिल्ली, टेक डेस्क। प्राइवेट टेलिकॉम कंपनियां जैसे Reliance Jio, Airtel और Vodafone-Idea (Vi) की तरफ से एक माह के रिचार्ज के नाम पर ग्राहकों को 30 की जगह 28 दिनों की वैधता ऑफर करती है। इसी तरह दो माह के रिचार्ज में ग्राहकों को 54 या 56 दिनों की वैधता मिलती है। जबकि तीन माह के रिचार्ज में 90 दिनों की जगह 84 दिनों की वैधता ऑफर की जाती है। आखिर इसके पीछे की वजह क्या है? आइए जानते हैं विस्तार से-

क्यों एक माह के रिचार्ज में मिलती है 28 दिनों की वैधता

दरअसल टेलिकॉम कंपनियों की ओर से एक माह के रिचार्ज में 28 दिनों की वैधता ऑफर करती हैं। इससे टेलिकॉम कंपनियों के हिस्से बड़ा फायदा आता है। ग्राहक की मानें, तो उसकी तरफ से सालभर में 12 माह का रिचार्ज किया जाता है। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। हकीकत यह है कि ग्राहक 28 दिनों की वैधता के हिसाब से सालभर में 12 नहीं, बल्कि 13 माह का रिचार्ज कराते हैं। ऐसा इलिए क्योंकि हर माह दो दिनों की कम वैधता से साल के आखिरी में 28 दिन अतिरिक्त बच जाते हैं।

सालभर में फरवरी को छोड़कर 22 दिनों का एक्स्ट्रा निकलते हैं। साथ ही 31 दिन के माह के हिसाब से 3 दिन एक्स्ट्रा बच जाते हैं। इससे एक्स्ट्रा दिनों की संख्या बढ़कर 28 और 29 दिन हो जाते हैं. ऐसे में ग्राहक 13 माह का रिचार्ज कराता है।

54 दिन का रिचार्ज

इसी तरह दो माह में 56 दिनों की वैधता के साथ साल के आखिरी में 24 दिन एक्स्ट्रा निकलते हैं। साथ ही 31 दिन के माह के हिसाब से 6 दिन एक्स्ट्रा निकलते हैं। ऐसे में आपको 13 माह का रिचार्ज कराना होता है।

84 दिन रिचार्ज

तीन माह में 84 दिनों की वैधता के हिसाब से सालभर में 24 दिन एक्स्ट्रा निकलते हैं। साथ ही 31 दिन के हिसाब से 7 दिन को जोड़ दें, तो कुल 31 दिन होते हैं। 

Edited By: Saurabh Verma