नई दिल्ली (टेक डेस्क)। क्या आपने कभी सोचा है कि मोबाइल फोन स्विच ऑफ करते ही आपके बैंक अकाउंट से पैसे गायब हो सकते हैं। तो आपको बता दें कि ऐसा संभव है। हाल ही में बैंक फ्रॉड की कई घटनाएं सामने आई हैं जिसमें हैकर्स मोबाइल नंबर की मदद से आपके बैंक अकाउंट्स में सेंध लगा चुके हैं। हाल ही में मुंबई के एक व्यापारी ने 1.86 करोड़ रुपये गवां दिए। व्यापारी का मोबाइल फोन उसके हाथ ही में था। एकदम से नेटवर्क गायब हुआ और बैंक अकाउंट से करोड़ों रुपये गायब हो गए। वैसे हम पहले भी आपको सिम स्वैप (SIM Swap) के बारे में बता चुके हैं। हैकर्स ने चंद सेकेंड में व्यापारी के अकाउंट से सिम स्वैप की मदद से करोड़ों रुपये लूट लिए।

तकनीक का विकसित होना हमारे काम को जितना सुगम बनाते जा रहा है उतना ही इसके दुरुपयोग की कई घटनाएं आए दिन सामने आ रही है। आपराधिक प्रवृति वाले लोग इस तकनीक का दुरुपयोग करके आम लोगों के लिए मुसीबत पैदा कर रहे हैं। जैसा कि आप जानते हैं कि डिजिटल युग की तरफ बढ़ते हुए देश के अधिकतर अकाउंट मोबाइल नंबर और आधार नंबर से लिंक है। ऐसे में हैकर्स बैंक अकाउंट होल्डर का सिम स्वैप करके बैंक की जानकारी निकाल लेते हैं और बैंक से मोबाइल बैंकिंग के जरिए पैसे साफ कर देते हैं। हैकर्स ऐसा इसलिए कर पाते हैं क्योंकि बैंकिंग सेवा में लेन-देन के आपके मोबाइल पर ही OTP (वन टाइम पासवर्ड) आता है। हैकर्स ने इसके लिए सिम स्वैप का तरीका ढ़ूंढ लिया है।

क्या है SIM Swap?

SIM Swap का मतलब होता है एक नंबर के लिए मौजूदा सिम को बदलकर उसकी जगह पर एक नया सिम कार्ड लेगा। आमूमन सिम कार्ड खराब होने पर या फिर नेटवर्क की समस्या आने पर यूजर्स अपने सिम कार्ड को बदलवाते हैं। लेकिन हैकर्स ने इस SIM Swap तरीके का इस्तेमाल करके कई लोगों के बैंक अकाउंट में सेंध लगाई है। आपको यह भी पता है कि बिना आपके डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन्स के टेलिकॉम कंपनियां आपको नया सिम कार्ड इश्यू नहीं करती है। लेकिन हैकर्स ने इसके लिए भी एक तरीका निकाल लिया है।

इस तरह करते हैं धोखाधड़ी

हैकर्स या धोखाधड़ी करने वाले लोग आपके फोन पर कॉल करते हैं और खुद को आपके सिम की कंपनी का कस्टमर एक्जीक्यूटिव बताते हैं। वे कोई बहाना बनाकर आपसे आपकी सिम का नंबर मांगते हैं, जैसे कि- नेटवर्क कमजोर होने के चलते वे आपके सिम को अपग्रेड करने का ऑफर दे रहे हैं या फिर आपके नंबर पर किसी खास प्लान का ऑफर आया है और आपको नई सिम खरीदनी पड़गी। ज्यादातर लोग इस बहकावे में आ जाते हैं और अपना सिम नंबर बता देते हैं। 20 अंकों वाला सिम नंबर बताने के बाद आपसे कहा जाता है कि आप नंबर को कंफर्म करने के लिए 1 दबाएं।

इस तरह बैंक अकाउंट से निकालते हैं पैसे

जैसे ही आप 1 दबाते हैं, वैसे ही आपके नंबर पर खुद-ब-खुद नए सिम के लिए रिक्वेस्ट डाल दी जाती है। जैसे ही आप 1 नंबर प्रेस करते हैं, आपकी सिम कार्ड कंपनी के पास नए सिम की रिक्वेस्ट पहंच जाती है। इसके बाद आपके पास जो सिम है वह बंद हो जाता है और धोखाधड़ी करने वाले लोगों के पास जो सिम है वह चालू हो जाता है। इसके बाद आपके नंबर से जितने भी बैंक खाते जुड़े हैं, उनसे पैसा निकाल लिया जाता है।

मोबाइल स्विच ऑफ करना है खतरनाक

कई बार ठग आपसे मोबाइल नंबर के साथ आधार नंबर भी मांगते हैं, क्योंकि बैंक खाते व अन्य कई योजनाएं आधार से जुड़ी हैं। कई बार हम अपने फोन को स्विच ऑफ कर देते हैं। ऐसे में आपके सिम कार्ड बदलने से जुड़े मैसेज या फिर बैंक की लेन-देन की जानकारी भी आपको नहीं मिलती है। इसलिए आप अपने फोन को स्विच ऑफ करने से बचें।

यह भी पढ़ें:

राजस्थान में मोबाइल ब्लास्ट होने से हुई व्यक्ति की मौत, भूलकर भी न करें मोबाइल के साथ ये काम

PUBG Mobile में जल्द आएगा Zombie mode, जानें नए अपडेट में क्या होंगे नए फीचर्स

Vivo के प्रीमियम स्मार्टफोन्स 101 रुपये में खरीद सकते हैं आप, जानें कैसे उठाएं लाभ 

Posted By: Harshit Harsh