नई दिल्ली, टेक डेस्क। इंटरनेट का इस्तेमाल आज हर कोई करने लगा है। यह हुआ है किफायती स्मार्टफोन्स और सस्ते डाटा प्लान्स के चलते। लोग जितना इंटरनेट की तरफ आकर्षित हो रहे हैं उतने ही लोग फ्रॉड का शिकार बनते जा रहे हैं। इंटरनेट की दुनिया में अकाउंट हैक होने से बचाना एक चुनौतीपूर्ण काम रहा है। कई लोग इस तरह के मामलों में इस तरह फंस जाते हैं कि उन्हें काफी भारी कीमत चुकानी पड़ती है। हालांकि, अगर आप जरा-सी सावधानी बरतें तो आप इस तरह के मामलों से बच सकते हैं।

साइबर क्रिमिनल्स आपके अकाउंट या डिवाइस में स्पाइवेयर और मैलवेयर इंस्टॉल कर आपकी जानकारी चुराते हैं। मैसेजेज या ई-मेल की मदद से इन्हें आपकी डिवाइस या अकाउंट में भेजा जाता है। ऐसे में इस तरह की गतिविधियों से बचने के लिए आपको 6 बातों का खास ख्याल रखना होगा जिसकी जानकारी हम यहां दे रहे हैं।

पब्लिक वाई-फाई नेटवर्क्स का न करें इस्तेमाल: किसी भी पब्लिक वाई-फाई नेटवर्क का इस्तेमाल न करें। अगर आप करते हैं तो आप हैकिंग का शिकार हो सकते हैं। क्योंकि यह ओपन सोर्स नेटवर्क होता है और इसे कोई भी बिना पासवर्ड इस्तेमाल कर सकता है।

पब्लिक चार्जिंग पोर्ट्स का न करें इस्तेमाल: किसी भी सार्वजनिक जगह पर अपने फोन को चार्जिंग पोर्ट में न लगाएं। इससे आप हैकिंग का शिकार हो सकते हैं। कई बार अटैकर्स ऐसे पोर्ट्स में यूएसबी केबल लगाकर डिवाइस में मालवेयर इंस्टॉल कर देते हैं। इससे आपकी डिवाइस भी मालवेयर से प्रभावित हो सकती है।

पासवर्ड पर दें ध्यान: जब भी आप अपने किसी अकाउंट का पासवर्ड बनाएं तो उसे मजबूत रखें। यानी कोई भी नॉर्मल पासवर्ड न बनाएं। उसमें कैप्टिल लैटर, स्मॉल लैटर, स्पेशल कैरेक्टर और नंबर्स को शामिल करें।

टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन: इसे 2FA भी कहते हैं। गूगल और फेसबुक जैसी इंटरनेट सर्विसेज पर टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को ऑन करें। यह किसी भी नई डिवाइस में आपका अकाउंट लॉगइन करने के लिए आपसे OTP मांगेगा। ऐसे में अगर कोई आपका पासवर्ड चुरा भी लेता है तो वो आपका अकाउंट लॉगइन नहीं कर पाएगा।

वर्चुअल कीबोर्ड: हैकर्स की-बोर्ड ट्रैकर की भी मदद लेते हैं आपका पासवर्ड पता करने के लिए। कई सर्विसेज ऐसी होती हैं जहां आपको वर्चुअल की-बोर्ड के जरिए पासवर्ड टाइप करने का विकल्प दिया जाता है। इसके जरिए पासवर्ड एंटर कर आप की-बोर्ड ट्रैकिंग से बच पाएंगे।

OTP की लें मदद: कई सर्विसेज ऐसी भी होती हैं जहां लॉगइन के लिए OTP मांगा जाता है। यह पासवर्ड से बेहतर विकल्प होता है। यह आपके फोन पर भेजा जाता है। इससे हैकिंग की खतरा कम हो जाता है। 

Posted By: Shilpa Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस