नई दिल्ली, टेक डेस्क। इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप Whatsapp ने आज 12 साल का सफर तय कर लिया है। इस सफर में कंपनी ने जहां कई उतार-चढ़ाव देखें, वहीं यूजर्स के बीच इसकी लोकप्रियता लगातार बढ़ती गई। Whatsapp ने यूजर्स के बीच एक मजबूत और विश्वसनीय जगह बनाई है। खासतौर से कोरोना काल में अपनों के करीब रहने सबसे आसान और मजबूत जरिया Whatsapp बना। हालांकि, पिछले ​कुछ समय से Whatsapp अपने नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर विवादों में बना हुआ है। लेकिन बावजूद इसके कंपनी हर अपने यूजर्स तक नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर बन रहे भम्र को दूर करने की पूरी कोशिश कर रही हैं। 

कंपनी ने ट्विटर पर शेयर की 12 साल पूरे होने की खुशी

Whatsapp ने अपने ट्विटर अकाउंट पर 12 साल पूरे होने की घोषणा करते हुए खुशी भी शेयर की। इस ट्वीट में जानकारी दी गई है कि दो बिलियन यानि करीब 200 करोड़ से अधिक यूजर हर महीने 100 बिलियन यानि 10 हजार करोड़ मैसेज और एक बिलियन (100 करोड़) से ज्यादा कॉल करते हैं।

2009 में हुई थी शुरुआत

Whatsapp की शुरुआत एक इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप के तौर पर साल 2009 में की गई थी। इस ऐप को Yahoo के पूर्व कर्मचारियों ब्रायन एक्टन और जेन कौन में मिलकर लॉन्च किया था। लेकिन साल 2014 में Facebook ने 19 बिलियन डॉलर यानि करीब 114,000 करोड़ रुपये में Whatsapp को खरीद लिया और अब व्हाट्सऐप का मालिकाना हक Facebook के पास है। इसके बाद फेसबुक के साथ प्राइवेसी पर उठ रहे सवालों के कारण ब्रायन एक्टन और जेन कौन ने कंपनी को छोड़ने का फैसला लिया। 

2014 से 2018 रहा काफी खास 

Facebook द्वारा अधिग्रहण करने के बाद साल 2015 में Whatsapp में सबसे खास फीचर के तौर पर वॉयस कॉलिंग सपोर्ट को जोड़ा गया। इसके बाद साल 2016 में इसमें वीडियो कॉलिंग सपोर्ट भी शामिल हो गया। फिर साल 2018 में कंपनी ने इस ऐप में ग्रुप वॉयस कॉलिंग की सुविधा उपलब्ध कराई। इसके बाद स्टिकर और जीआईएफ जैसे फीचर्स भी उपलब्ध कराए गए। 

Whatsapp पेमेंट सर्विस भारत में हुई लॉन्च

Whatsapp के इन 12 सालों के सफर में कई खास व उपयोगी फीचर्स देखने को मिले। इनमें सबसे खास रहा पिछले साल यानि 2020 में लॉन्च किया गया Whatsapp पेमेंट फीचर। इस फीचर की मदद से यूजर्स अब Whatsapp पर मैसेजिंग और कॉलिंग करने के अलावा पैसो का लेन-देन भी कर सकते हैं। 

चर्चा में है नई प्राइवेसी पॉलिसी 

Whatsapp की नई प्राइवेसी पॉलिसी पिछले कुछ समय से चर्चा में बनी हुई है और इसकी वजह से यूजर्स Whatsapp को छोड़ इसके विकल्प ट्राई कर रहे हैं। कंपनी नई पॉलिसी को 8 फरवरी को लागू करने वाली थी लेकिन इसकी डेट को आगे बढ़ा दिया गया है। कंपनी की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर यूजर्स के बीच भम्र को दूर करने के लिए कंपनी ने हाल ही में स्पष्टीकरण दिया है कि हम यूजर्स की प्राइवेसी को लेकर हमेशा की तरह कमिटे हैं और आपकी पर्सनल चैट कोई नहीं देख सकता।

Edited By: Renu Yadav