नई दिल्ली, Vastu Tips: गर्मियों के मौसम में हर कोई ठंडा-ठंडा पानी पीना चाहता है। ऐसे में हर घर में फ्रिज का बोलबाला है। ऐसे में बहुत ही मुश्किल से किसी घर में मिट्टी के घड़े या फिर सुराही देखने को मिलते हैं। लेकिन बता दें कि मिट्टी के घड़े का पानी पीने से जहां व्यक्ति कई तरह की बीमारियों से दूर रहेगा। वहीं वास्तु के अनुसार शनि, मंगल, बुध, चंद्रमा ग्रह मजबूत होने के साथ-साथ धन धान्य की प्राप्ति होगी। जानिए वास्तु के अनुसार, सुराही या घड़ा रखने की सही दिशा के साथ किन बातों का रखें ख्याल।

घड़ा या सुराही रखने की दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार, मिट्टी का घड़ा या फिर सुराही उत्तर दिशा की ओर रखना चाहिए। क्योंकि इस दिशा में कुबेर भगवान के साथ वरुण देव की दिशा मानी जाती है। इसलिए इस दिशा में रखने से दोनों देवताओं का आशीर्वाद मिलता है और कभी भी धन की कमी नहीं होती है।

इस तरह रखें घड़ा या सुराही

वास्तु के अनुसार, जब आप घड़ा या फिर सुराही खरीदकर लाते हैं तो उसे अच्छे से साफ करके पानी भर दें और इस पानी को सबसे पहले किसी कन्या को पिलाएं। माना जाता है कि ऐसा करने से घर में उन्नति आती है।

न रखें खाली

वास्तु के अनुसार मिट्टी का घड़ा या सुराही कभी भी खाली नहीं रखना चाहिए। हमेशा इसमें पानी भरा रहना चाहिए। क्योंकि मिट्टी का घड़ा बुध और चंद्रमा की स्थिति को सही करता है। ऐसे में घड़े में पानी भरे रहने से आपकी कुंडली में दोनों ग्रह मजबूत होंगे। इसके साथ ही धन लाभ होगा।

रोजाना करें ये काम

वास्तु के अनुसार, अगर आप नौकरी में उन्नति के साथ हर काम में सफलता चाहते हैं मिट्टी के घड़े के पानी के पास रोजाना दीपक और कपूर जलाएं।

मिट्टी के बर्तन में पानी पीने के लाभ

वास्तु के अनुसार, मिट्टी के घड़े या सुराही का पानी पीने से बुध के साथ चंद्रमा ग्रह मजबूत होता है। इसके अलावा शनि ग्रह की स्थिति सही करने के लिए मिट्टी के बर्तन में पानी भरकर पीपल के पेड़ के नीचे रख दें। इससे सभी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा मंगल ग्रह को मजबूत करने के लिए मिट्टी के बर्तन से ही पानी पिएं।

Pic Credit- instagram/ yogawithkannan

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Shivani Singh