Vastu for Planting Trees: हम सभी अपने घरों में पौधे लगाने के शौकीन होते हैं। लेकिन कई बार वास्तु के अनुसार हमारे द्वारा चुना गया पौधा घर में वास्तु दोष ला सकता है। वहीं, अगर हम अपने बचपन पर गौर करें तो हमारी दादी-नानी और मां घर में केले, तुलसी और शमी के पेड़-पौधे लगाती थी। यह हमारी संस्कृति का भी अहम हिस्सा होते हैं। ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार, इन पौधों में सकारात्मक ऊर्जा होती है और यह हमारे जीवन को स्ट्रेस फ्री बनाता है। इसी तरह वास्‍तुशास्‍त्र में भी इनकी महत्ता को बताया गया है। कहा जाता है कि अगर इन्‍हें शुभ समय और सही स्‍थान पर लगाया जाए तो इससे व्यक्ति के जीवन में खुशियां ही खुशियां आती हैं।

इस नक्षत्र में लगाएं घर में पौधे:

वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार, पौधे लगाते समय नक्षत्रों का व‍िशेष ध्‍यान रखना चाहिए। इन्हीं के आधार पर पौधे अच्‍छे से फलते-फूलते भी हैं और घर में खुशहाली भी आती है। घर में पौधे लगाने के लिए स्वाति, उत्तरा, हस्त, रोहिणी और मूल नक्षत्र को सबसे बेहतर माना गया है। ऐसा करने से जीव की सभी परेशानियां हल हो जाती हैं। साथ ही सभी काम बनने लगते हैं।

इस दिशा में लगाएं पौधे:

वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार, पौधे लगाने के लिए दिशा का ध्यान रखा बेहद जरूरी है। ऐसे में जब भी घर पौधे लगाएं तो उन्हें वाम पार्श्व में न लगाएं। वहीं, नेत्रत्व या अग्नि कोण में भी इन्हें न लगाएं। ये दिशाएं अशुभ मानी जाती हैं। ऐसा करने से जीवन में नकारात्‍मकता का संचार होता है। घर की पूर्व द‍िशा में किसी भी तरह के बड़े और विशाल पेड़-पौधों को न लगाएं। लेकिन अगर यह पेड़ पहले से ही लगे हैं तो और आप इन्हें हटा नहीं सकते हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। इसकी नकारात्मकता को दूर करने के लिए घर की उत्तर दिशा में आंवला, हरश्रृंगार, तुलसी और अमलतास के पौधे लगा सकते हैं। ऐसा करने से घर के दोष धीरे-धीरे कम हो जाते हैं।

अगर आपके घर में लगे पेड़-पौधे फल या फूल नहीं दे रहे तो आप कुछ उपाय कर सकते हैं। इसके लिए आप पौधों या पेड़ों की जड़ों में मूंग, उड़द, कुलथी, तिल और जौ मिला दें। साथ ही पानी भी डाल दें। वहीं, यह भी कहा जाता है कि व्यक्ति अपने घर या जमीन को दूषित होने से बचाने के लिए आंवले का पौधा लगाना होगा।

इसके अलावा आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आप घर में किसी भी तरह के कांटेदार पौधे न लगाएं। इन पौधों से दूरी बनाकर रखें। इससे घर में रहने वाले सभी सदस्‍यों पर देवी लक्ष्‍मी की कृपा बनी रहती है। 

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Shilpa Srivastava