नई दिल्ली, वेब डेस्क | Veda-Purana, Kaliyug Predictions: वेद-पुराणों में कई रहस्य छिपे हुए हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इनमें न केवल देवी-देवताओं के विषय में विस्तार से बताया गया है, बल्कि मनुष्य के जन्म और मरण का समय व आने वाले भविष्य के विषय में भी बताया गया है। बता दें कि शास्त्रों में चार युगों का वर्णन किया गया हैं। इनमें सतयुग को पहला युग बताया जाता है, जिसमें देवी-देवता पृथ्वीलोक पर मनुष्य की भांति रहते थे। इसके बाद त्रेता युग आया, जिसमें भगवान श्री राम के रूप में भगवान विष्णु ने धरती अवतरण लिया था। इसके बाद द्वापर युग में भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण ने धरती पर कई लीलाएं की रची थीं। अभी वर्तमान में अंतिम युग अर्थात कलयुग चल रहा है। बता दें कि वेदों में कलयुग के विषय में कई भविष्यवानियां की गई हैं, जिन्हें जानकर आप भी दंग रह जाएंगे।

कलयुग समय अवधि

कलयुग को अन्य तीनों युगों के तुलना में बहुत ही छोटा माना जाता है। साथ ही बताया गया है कि इस युग की अवधि करीब 4,32,000 मानव-वर्ष है। इस युग में पाप और अंधकार अपने चरम रहता है और देवता-राक्षस आदि नहीं दिखाई देते हैं। कलयुग में मनुष्यों को ही श्रेष्ठ माना जाता है, जो यहां जन्म से मरण तक की यात्रा करते हैं। पुराणों में यहां तक बताया गया है कि कलयुग में अच्छे लोग कम और बुराइयां चरम पर रहती है। इस युग में एक मनुष्य की आयु मात्र 100 वर्ष है। जानकारी के लिए बता दें कि कलयुग को शुरू हुए अभी साढ़े 5 हजार ही हुए हैं।

कलयुग के विषय में भविष्यवाणी

विष्णु पुराण में बताया गया है कि कलयुग की अवधि जैसे कम होती रहेगी वैसे-वैसे मनुष्य के रहन-सहन पर भी बदलाव आएगा। एक समय ऐसा आएगा जब मनुष्य की लम्बाई मात्र 4 इंच रह जाएगी और उम्र केवल 12 से 20 साल के बच रहेगी। वह ऐसा समय होगा जब सत्य और दया दूर-दूर तक नहीं होगी और पापियों की संख्या चरम पर होगी। विष्णु पुराण में यह भी बताया गया है, कलयुग जैसे-जैसे आगे बढ़ता रहेगा। धर्म का अनुसरण करने वाले लोग और धर्म से जुड़ी निशानियां विलुप्त हो जाएंगी।

डिसक्लेमर- इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shantanoo Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट