Move to Jagran APP

शादी से पहले Anant-Radhika ने की शिव शक्ति पूजा, जानें क्या है इसका महत्व और क्यों है जरूरी?

त्रेतायुग में मां जानकी ने भी शादी से पहले शिव शक्ति की पूजा की थी। इसके पश्चात भगवान श्रीराम और मां जानकी परिणय सूत्र में बंधे थे। इसके लिए शादी से पहले वर और वधू द्वारा शिव शक्ति की पूजा की जाती है। शिव शक्ति पूजा प्रकांड पंडित के सान्निध्य में की जाती है। 10 जुलाई को अनंत और राधिका ने (Anant Radhika Wedding) शिव शक्ति पूजा की।

By Pravin KumarEdited By: Pravin KumarThu, 11 Jul 2024 08:58 PM (IST)
Anant Radhika Wedding: शिव शक्ति पूजा के लाभ

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Anant Radhika Wedding: मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी और नीता अंबानी के छोटे बेटे अनंत अंबानी की शादी चर्चा में है। खबरों की मानें तो 12 जुलाई को अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट की शादी है। आसान शब्दों में कहें तो 12 जुलाई को अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट परिणय सूत्र (Anant Radhika Wedding Rituals) में बंधेंगे। इससे पूर्व विवाह के सभी मांगलिक कार्य किए जा रहे हैं। इस दौरान 10 जुलाई को मेहंदी सेरेमनी की गई है। इस अवसर पर शिव शक्ति पूजा की गई। ज्योतिषियों की मानें तो शिव शक्ति की पूजा करने से वर और वधु को शुभता का आशीर्वाद प्राप्त होता है। साथ ही उनका वैवाहिक जीवन सुखमय बीतता है। लेकिन क्या आपको पता है कि शिव शक्ति पूजा किया है और क्यों शादी से पहले की जाती है ? आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

यह भी पढ़ें:शिवजी के विवाह में क्यों मुंह फुला कर बैठ गए थे भगवान विष्णु? इस मंदिर से जुड़ा है कनेक्शन

क्या है शिव शक्ति पूजा ?

सनातन शास्त्रों में निहित है कि जगत की देवी मां पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए देवों के देव महादेव की कठिन तपस्या की थी। मां पार्वती की कठिन भक्ति और तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने दर्शन देकर अपनी धर्मपत्नी रूप में स्वीकार्य करने का वरदान दिया। कालांतर में फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को भगवान शिव एवं मां पार्वती परिणय सूत्र में बंधे थे। भगवान शिव एवं मां पार्वती का रिश्ता अटूट है। उनका रिश्ता जन्म-जन्मांतर का है। इसके लिए विवाहित जोड़े शादी से पहले शिव शक्ति की पूजा (Shiv Shakti Puja) करते हैं। इस अवसर पर शिव शक्ति से सुखमय वैवाहिक जीवन की कामना करते हैं।

धार्मिक महत्व

ज्योतिषियों की मानें तो वर और वधू के सुखमय वैवाहिक जीवन के लिए कुंडली मिलान अनिवार्य होता है। इसमें किसी प्रकार का दोष लगने पर वर और वधू को वैवाहिक जीवन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इस स्थिति में ज्योतिष भगवान शिव एवं मां पार्वती की पूजा करने की सलाह देते हैं। भगवान शिव एवं मां पार्वती की पूजा करने से सभी प्रकार के दोषों का निवारण हो जाता है। इसके लिए शादी से पहले शिव शक्ति की पूजा की जाती है। इसमें स्थानीय रीति-रिवाजों का पालन कर शिव शक्ति की पूजा की जाती है।

शिव शक्ति पूजा के लाभ

देवों के देव महादेव जगत के पिता हैं। किसी भी शुभ कार्य के समय शिव शक्ति की आराधना करने से कार्य में सिद्धि प्राप्त होती है। भगवान शिव की पूजा करने से कुंडली में व्याप्त सभी प्रकार के अशुभ ग्रहों का प्रभाव समाप्त हो जाता है। साथ ही सुख, समृद्धि, यश-कीर्ति एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। इसके अलावा, जातक को आरोग्यता का भी वरदान प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ें: जुलाई महीने में इस दिन करें सत्यनारायण देव की पूजा, आर्थिक तंगी होगी दूर

डिसक्लेमर: 'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'