नई दिल्ली, लाइफ स्टाइल डेस्क। Mahashivratri 2020 :

विक्रम सवंत तिथि अनुसार आज 21 फरवरी 2020 को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन भगवान शिव जी एवं माता पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है। ऐसा कहा जाता है कि जो भक्त महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव जी एवं माता पार्वती की पूजा आराधना करते हैं, उनकी समस्त इच्छाएं पूर्ण होती है। इसके साथ ही जीवन में केवल मंगल ही मगल का आगमन होता है। शैव सम्प्रदाय के अनुयायियों के लिए महाशिवरात्रि का दिन विशेष महत्व रखता है। वहीं, सुहागिन महिलाएं एवं अविवाहित लड़के एवं लड़कियों के लिए भी यह पर्व विशेष महत्व रखता है। शिव जी की कृपा से अविवाहितों की जल्दी शादी होती है। जबकि सुहागिन महिलाएं के परिवार में सुख शांति और समृद्धि आती है।

हालांकि, शिव जी की पूजा एवं उनकी प्रसन्नता के लिए हमें कुछ खास नियमों का पालन करना होता है। जिसमें एक मंत्रोउच्चारण है। अनजान में हम सभी मंत्रों का उच्चारण करते हैं लेकिन हर एक मंत्र का खास उद्देश्य होता है। ऐसे में आज हम आपको उन मंत्रों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसके जप से आपको मनोवांछित फल की प्राप्ति हो सकती है। 

इन मंत्रों का जरूर जाप करें 

ॐ अच्युताय नम: 

ॐ जगतगुरवे नम: 

ॐ विश्वरूपाय नम: 

ॐ ज्योतिरादित्याय नम:  

ॐ अनिरुद्धाय नम: 

ॐ हिरण्यगर्भाय नम: 

ॐ उपेन्द्र नम: 

ॐ अनंताय नम: 

ॐ दयानिधि नम: 

ॐ अजयाय नम: 

ॐ अनादिय नम:  

ॐ जगन्नाथाय नम: 

महामृत्युंजय मंत्र 

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |

उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्||

इस मंत्र का जाप करने से सभी प्रकार के रोग, भय, चिंता, दुःख दूर हो जाते हैं। धार्मिक ग्रंथों में निहित है कि दुःख की घड़ी में महामृत्युंजय मंत्र के जाप करने से सभी प्रकार की बाधा समाप्त हो जाती है।

ॐ नमः शिवाय

शिव जी की कृपा पाने और उन्हें प्रसन्न करने के लिए महाशिवरात्रि के दिन पूजा के समय ॐ नमः शिवाय मंत्र का भी कम से कम 108 बार जरूर जाप करें। इसके साथ ही आप शिव चालीसा का पाठ भी करें। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस