नई दिल्ली, Mahagauri Mantra and Aarti: आज शारदीय नवरात्र का आठवां दिन है। आज के दिन मां दुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी की विधिवत पूजा की जाती है। माना जाता है कि आज के दिन पूजा करने से मां दुर्गा व्यक्ति की हर मनोकामना को पूर्ण कर देती हैं। आज के दिन मां महागौरी की विधिवत पूजा करने के साथ-साथ महागौरी आरती और मां महागौरी स्तोत्र का पाठ जरूर करें।

महागौरी माता का स्वरूप

मां दुर्गा के आठवें स्वरूप को माता महागौरी माना जाता है। मां महागौरी का रंग दूध के समान श्वेत है। माता की चार भुजाएं हैं और प्रत्येक भुजा में मां ने अभय मुद्रा, त्रिशूल, डमरू और वर मुद्रा धारण हुआ है। महागौरी मां को फलदायी और हर कष्ट हरने वाली मां माना जाता है।

महागौरी स्तोत्र ( Mahaguri Stotra)

सर्वसंकट हंत्री त्वंहि धन ऐश्वर्य प्रदायनीम्

ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाभ्यहम्

सुख शान्तिदात्री धन धान्य प्रदीयनीम्

डमरूवाद्य प्रिया अद्या महागौरी प्रणमाभ्यहम्

त्रैलोक्यमंगल त्वंहि तापत्रय हारिणीम्

वददं चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्

महागौरी की आरती ( Mahagauri Mata Ki Aarti)

जय महागौरी जगत की माया

जय उमा भवानी जय महामाया

हरिद्वार कनखल के पासा

महागौरी तेरा वहा निवास

चंदेर्काली और ममता अम्बे

जय शक्ति जय जय मां जगदम्बे

भीमा देवी विमला माता

कोशकी देवी जग विखियाता

हिमाचल के घर गोरी रूप तेरा

महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा

सती 'सत' हवं कुंड मै था जलाय

उसी धुएं ने रूप काली बनाया

बना धर्म सिंह जो सवारी मै आया

तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया

तभी मां ने महागौरी नाम पाया

शरण आने वाले का संकट मिटाया

शनिवार को तेरी पूजा जो करता

माँ बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता

'चमन' बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो

महागौरी माँ तेरी हरदम ही जय हो

Pic Credit- Freepik

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shivani Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट