नई दिल्ली, अध्यात्म डेस्क | Virgo Yearly Horoscope 2023: वर्ष 2023 का प्रारंभ हो चुका है। ऐसे में यह जानना आवश्यक है कि सभी राशि के लिए यह साल कैसा रहने वाला है। वार्षिक राशिफल के इस भाग में आज हम बात करेंगे कन्या राशि की। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिन लोगों का नाम टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे अथवा पो अक्षर से शुरू होता है, उनकी राशि कन्या है। वार्षिक राशिफल के अनुसार यह साल कन्या राशि के जातकों के लिए मिला जुला रहने वाला है। ग्रह गोचर के कारण कुछ समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। आइए इंदौर के पंडित हर्षित शर्मा "मोहन" से जानते हैं कन्या राशि का वार्षिक राशिफल।

कन्या वार्षिक राशिफल 2023 (Virgo Yearly Horoscope 2023 in Hindi)

इस वर्ष आपको आर्थिक, व्यावसायिक एवं घरेलू संबंधित विविध समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। मध्य जनवरी से मार्च माह तक संतान के स्वास्थ को लेकर परेशान रह सकते हैं। इस वर्ष कोई नए कार्य की शुरुआत नहीं करनी चाहिए, अन्यथा भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। जिस कार्य को करने का मन बनाएंगे, वही पहले आलस और बाद में किसी कमी के चलते विलम्ब से शुरू होगा। साथ ही आधा होने के बाद मानसिक स्थिति बदलने से छोड़ने का मन करेगा। आपकी यही मानसिकता सभी कार्यो के प्रति रहेगी। जिसके कारण खर्च निकालना भी भारी पड़ेगा। धन संबंधित कोई भी जोखिम बहुत आवश्यक होने पर ही लें। घर का वातावरण उथ-पुथल भरा रहेगा। सेहत भी नरम-गरम बनी रहेगी। अप्रैल माह के अंत में बृहस्पति देवता राहु के साथ गुरु चांडाल योग निर्मित कर रहे हैं। जिसके कारण जातक को मानसिक तनाव और सिर में दर्द की शिकायत रह सकती हैं।

कन्या राशि के लिए है यह सलाह (Virgo Yearly Horoscope 2023 Upay)

इस वर्ष आपको आर्थिक, व्यावसायिक एवं घरेलू संबंधित विविध समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। मध्य जनवरी से मार्च माह तक संतान के स्वास्थ को लेकर परेशान रह सकते हैं। इस वर्ष कोई नए कार्य की शुरुआत नहीं करनी चाहिए, अन्यथा भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। जिस कार्य को करने का मन बनाएंगे, वही पहले आलस और बाद में किसी कमी के चलते विलम्ब से शुरू होगा। साथ ही आधा होने के बाद मानसिक स्थिति बदलने से छोड़ने का मन करेगा। आपकी यही मानसिकता सभी कार्यो के प्रति रहेगी। जिसके कारण खर्च निकालना भी भारी पड़ेगा। धन संबंधित कोई भी जोखिम बहुत आवश्यक होने पर ही लें। घर का वातावरण उथ-पुथल भरा रहेगा। सेहत भी नरम-गरम बनी रहेगी। अप्रैल माह के अंत में बृहस्पति देवता राहु के साथ गुरु चांडाल योग निर्मित कर रहे हैं। जिसके कारण जातक को मानसिक तनाव और सिर में दर्द की शिकायत रह सकती हैं।

डिसक्लेमर- इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shantanoo Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट