Dos and don’ts on Rakhi 2021: राखी का त्योहार पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। राखी या रक्षा बंधन का त्योहार भाई-बहन के प्यार का त्योहार माना जाता है। राखी का त्योहार सावन मास की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाया जाता है। इस साल राखी 22 अगस्त, दिन रविवार को पड़ रही है। इस साल राखी पर घनिष्ठा नक्षत्र और गजकेसरी योग होने के कारण राखी बांधने का बहुत शुभ योग बन रहा है। लेकिन रक्षाबंधन के दिन राखी बांधते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए ताकि राखी का त्योहार सब के लिए खुशियों और सौभाग्य का कारक बने न की अशुभ का।

1-राखी का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाए, इस दिन किसी को भी अपशब्द न कहे और न किसी झगड़े या विवाद में फंसे।

2- राखी के दिन स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। भाई-बहन दोनों ही नहाने के बाद राखी बांधे।

3- राखी बांधते समय भाई अपना मुहं पूर्व या उत्तर दिशा में रखें। दक्षिण दिशा में मुंह करके राखी नहीं बांधनी चाहिए।

4- राहु काल और भद्रा में राखी नहीं बांधनी चाहिए। हालांकि इस साल राखी के दिन भद्रा नहीं लग रहा है, लेकिन सायं काल में कुछ देर के लिए राहुकाल रहेगा। राहु काल में राखी न बांधे ये अशुभ होता है।

5- कभी भी टूटी हुई या खण्डित राखी नहीं बांधना चाहिए।

6- राखी खरीदते समय ध्यान दे राखी पर स्वास्तिक, ऊँ या कलश आदि के शुभ चिन्ह बने हो। अशुभ चिन्हों की राखी नहीं बांधनी चाहिए।

7- राखी बांधते समय भाई के सिर पर रूमाल,अंगोछा या टोपी रखना चाहिए और बहनों को भी अपने सिर पर आंचल या दुपट्टे से ढंक लेना चाहिए।

8- राखी हमेशा भाई की दायीं कलाई पर बांधी जाती है, बांयी कलाई पर राखी बांधना अशुभ होता है।

9-भाईयों को राखी बांधने से पहले भगवान का स्मरण कर उनको तिलक करें और गणेश जी तथा अपने ईष्ट देवता को राखी बांधनी चाहिए।

10- राखी के दिन बहन को धारदार या काटने वाला, नुकीला समान उपहार में नहीं देना चाहिए।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar