Move to Jagran APP

Bakrid 2024 Wishes: बकरीद को बनाए और भी खास, इन मैसेज से अपनों को भेजें मुबारकबाद

ईद-उल-अजहा को बकरीद इस वजह से भी कहा जाता है क्योंकि इस पर्व पर मुस्लिम समुदाय के लोग बकरे की कुर्बानी करते हैं। इस्लामिक कैलेंडर के 12वें महीने जुल-हिज्जा के दसवें दिन बकरीद का पर्व अधिक धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस वर्ष आज यानी 17 जून को बकरीद मनाई जा रही है। इस पर्व पर लोग एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं।

By Kaushik Sharma Edited By: Kaushik Sharma Mon, 17 Jun 2024 06:15 AM (IST)
Bakrid 2024 Wishes: बकरीद को बनाए और भी खास, इन मैसेज से अपनों को भेजें मुबारकबाद
Bakrid 2024 Wishes: बकरीद को बनाए और भी खास, इन मैसेज से अपनों को भेजें मुबारकबाद

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Bakrid 2024 Wishes in Hindi: इस्लाम धर्म में बकरीद के त्योहार का बेहद खास महत्व है। इस्लामिक कैलेंडर के 12वें महीने जुल-हिज्जा के दसवें दिन बकरीद का पर्व अधिक धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस वर्ष आज यानी 17 जून (Bakrid 2024 Date) को बकरीद मनाई जा रही है। इस पर्व को ईद-उल-अजहा को इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इस दिन मुसलमान लोग बकरे या भेड़ की कुर्बानी करते हैं। इस खास अवसर पर लोग बकरीद की एक-दूसरे को मुबारकबाद देते हैं। ऐसे में इस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए हैं बकरीद ( Eid-ul-adha 2024 Wishes) के शानदार मैसेज, जिन्हें आप अपने परिवार के सदस्यों, करीबियों और मित्रों आदि को भेजकर मुबारकबाद दे सकते हैं।  

यह भी पढ़ें: Masik Kalashtami 2024: कालाष्टमी पर जरूर करें ये उपाय, सभी संकटों का होगा अंत, जीवन होगा खुशहाल

1.सूरज की किरणें, तारों की बहार

चांद की चांदनी अपनों का प्यार

आपका हर पर हो खुशहाल

मुबारक हो आपको बकरीद का त्यौहार

बकरीद की शुभकामनाएं

2. जिंदगी का हर पल खुशियों से कम न हो,

आपका हर दिन ईद के दिन से कम न हो।

बकरीद मुबारक

3.यह विशेष दिन आपको आपके परिवार और दोस्तों के करीब लाए

आपका दिल प्यार और खुशी से भर जाए

आपको ईद-उल-फितर की हार्दिक शुभकामनाएं भेज रहा हूं।

4. तमन्ना आपकी सब पूरी हो जाएं

हो आपका मुकद्दर इतना रोशन की

आमीन कहने से पहले ही

आपकी हर दुआ कबूल हो जाए

बकरीद मुबारक

5. चांद की रोशनी बिखर गई है आसमान में

खुशियों का माहौल है सारे जहान में

हर कोई अल्लाह की इबादत कर रहा है

ऐसी बरकत छाई है ईद के त्योहार में।

ईद मुबारक

6. हर ख्वाहिश हो मंजूर-ए-खुदा

मिले हर कदम पर रजा-ए-खुदा

फ़ना हो लब्ज-ए-गम है यह दुआ

बरसती रहे सदा रहमत-ए-खुदा

7. मुबारक मौका अल्लाह ने अता फरमाया

एक बार फिर बंदगी की राह पर चलाया

अदा करना अपना फर्ज तुम खुदा के लिए

खुशी से भरी हो ईद-उल-अजहा आपके लिए 

यह भी पढ़ें: Nirjala Ekadashi 2024: 17 या 18 जून, कब है निर्जला एकादशी? एक क्लिक में दूर करें कन्फ्यूजन