नई दिल्ली, Ashtadhatu Benefits In Hindi: ज्योतिष शास्त्र में हर एक रत्न के साथ-साथ धातुओं का भी काफी अधिक महत्व है। सोना,चांदी, कांसा, लोहा से लेकर अष्टधातु का भी काफी महत्व माना जाता है। हिंदू धर्म में अष्टधातु को काफी अच्छा माना जाता है क्योंकि यह पूरी आठ तरह की धातु से मिलकर बना होता है। आमतौर पर हिंदू और जैन धर्म में अष्टधातु से मूर्तियों का निर्माण किया जाता है। क्योंकि यह काफी पवित्र और शुभ माना जाता है। वहीं ज्योतिष शास्त्र की बात करें, तो अष्टधातु का इस्तेमाल करके व्यक्ति राहु की दशा को काफी हद तक कम करने के साथ किस्मत को भी चमका सकता है। अष्टधातु से बनी अंगूठी या फिर कड़ा पहनने से काफी लाभ मिलता है।

बता दें कि अष्टधातु आठ तरह की धातुओं से मिलकर बनती हैं जो सोना, चांदी, तांबा, सीसा, जस्ता, टिन, लोहा और पारा होता है। जानिए किन लोगों को अष्टधातु धारण करने से लाभ मिलेगा।

इन लोगों को पहनना चाहिए अष्टधातु

  • अगर किसी जातक की कुंडली में राहु की स्थिति काफी खराब है, तो वह उसे जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में राहु के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए अष्टधातु से बना हुआ कड़ा पहनना चाहिए। इससे काफी हद तक लाभ मिलेगा।
  • मानसिक और शारीरिक तनाव को कम करने के लिए अष्टधातु से बनी हुई अंगूठी या फिर कड़ा धारण कर लें। इससे व्यक्ति को हर तरह की परेशानी से निजात मिलेगी।
  • कुंडली में मौजूद ग्रहों के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए एक बार ज्योतिषी से सलाह लेकर अष्टधातु धारण करना लाभकारी होगा।
  • अगर किसी जातक को किसी भी तरह के निर्णय लेने में काफी समस्या होती है, तो वह अष्टधातु धारण कर सकता है।
  • लंबे समय से नौकरी में समस्या चल रही है या फिर प्रमोशन नहीं हो रहा है, तो अष्टधातु से बनी अंगूठी या फिर कड़ा धारण करना लाभकारी होगा।
  • अगर आपकी किस्मत लगातार आपके रूठी हुई है, तो अष्टधातु से बना कड़ा या अंगूठी पहन लें। इससे लाभ मिलेगा।

PicCredit- Instagram./dhanshreegems

डिस्क्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Edited By: Shivani Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट