Lord Vishnu Mantra: पौराणिक मान्यता के अनुसार गुरुवार या बृहस्पतिवार का दिन भगवान विष्णु की आराधना का विशेष दिन है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा एवं व्रत रखने का विधान है। भगवान विष्णु का देवताओं के गुरू बृहस्पति देव के रूप में पूजन के कारण ही इस दिन को गुरूवार या बृहस्पतिवार कहा जाता है। भगवान विष्णु जगत के पालनहार और भक्तवत्सल हैं श्रद्धापूर्वक की गयी पूजा को आवश्य स्वीकार करते हैं। यदि विधिपूर्वक विष्णु पूजा करना संभव न हो तो विष्णु भगवान के इन मंत्रों का जाप करना भी विशेष फलदायी होता है।

विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के मंत्र

भगवान विष्णु के इन मंत्रों का बृहस्पतिवार को जाप करने से विष्णु जी अवश्य प्रसन्न होते हैं तथा भक्तों के सभी कष्ट हर लेते हैं। इन मंत्रों का जाप करने से आप विष्णु जी की विशेष कृपा के अधिकारी हो जाते हैं। आइए जानते हैं इन विशेष मंत्रों को…

ॐ विष्णवे नम:।

ॐ हूं विष्णवे नम:।

ॐ नमो नारायण।

ॐ वासुदेवाय नम:।

ॐ नारायणाय नम:।

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः।

विष्णु स्तुति-

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं, विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्ण शुभाङ्गम्।

लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम, वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्।।

विष्णु जी को प्रसन्न करने के कुछ सरल उपाय

सनातन धर्म में मान्यता है कि विष्णु जी पीताम्बर मतलब पीले रंग के वस्त्र पहनते हैं, इसलिए गुरुवार को पीले रंग के कपड़े पहनना विष्णु जी की कृपा पाने का आसान उपाय है। साथ ही गुरुवार को पीले रंग की चीजें खाने तथा दान करने से भी भगवान विष्णु को प्रसन्न किया जा सकता है। इस दिन चावल खाना उचित नहीं माना जाता है, कोशिश करें कि इस दिन चावल न खाएं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar