Sawan 2019 Start Date: देवशयनी एकादशी से भगवान विष्णु के 4 मास तक क्षीर सागर में शयन के दौरान भगवान शिव इस जगत के पालनहार होते हैं। भगवान शिव का प्रिय मास सावन भी इन्हीं चार मासों में आता है। इस वर्ष सावन मास का प्रारंभ 17 जुलाई दिन बुधवार से हो रहा है। 15 अगस्त दिन गुरुवार को सावन मास का अंतिम दिन होगा। इस वर्ष सावन मास पूरे 30 दिन का है।

इस वर्ष सावन मास में चार सोमवार और चार मंगलवार पड़ रहे हैं। सावन के सोमवार व्रत से भगवान शिव को प्रसन्न कर मनचाहा आर्शीवाद प्राप्त किया जाता है, वहीं सावन का मंगलवार माता पार्वती के लिए समर्पित होता है, इस दिन माता पार्वती की पूजा कर जीवन में कल्याण और मंगल की प्राप्ति होती है। भगवान शिव की आराधना से संतान, वर, धन, मोक्ष आदि की प्राप्ति होती हैं।

सावन के चार सोमवार (Sawan 2019 Somvar)

22 जुलाई: सावन का पहला सोमवार।

29 जुलाई: सावन का दूसरा सोमवार।

05 अगस्त: सावन का तीसरा सोमवार।

12 अगस्त: सावन का चौथा सोमवार।

सावन के चार मंगलवार

23 जुलाई: सावन का पहला मंगलवार।

30 जुलाई: सावन का दूसरा मंगलवार।

06 अगस्त: सावन का तीसरा मंगलवार।

13 अगस्त: सावन का चौथा मंगलवार।

सावन में कांवड़ यात्रा (Kawad Yatra 2019)

सावन मास में कावड़ यात्रा का भी महत्व है। सावन में भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उनके ज्योतिर्लिंगों पर जलाभिषेक करते हैं। कांवड़िये हरिद्वार या वैद्यनाथ धाम में भगवान भोलेनाथ को जल अर्पित करते हैं और उनसे मनचाहा आर्शीवाद प्राप्त करते हैं। इसके अलावा सावन में अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए भगवान शिव की दूध, जल, गन्ने के रस आदि से अभिषेक करने का भी विधान है।

Posted By: kartikey.tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप